ताजा समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

 

21 जून, 2012

महाराष्ट्र सरकार का मंत्रालय जलकर खाक, 2 लोगों की मौत


मुंबई में मंत्रालय में लगी भीषण आग की चपेट में आकर 2 लोगों की मौत हो गई है। राहत और बचाव में जुटी टीम को इमारत की छठी मंजिल से दो लोगों के शव मिले। शव को बाहर निकाल लिय़ा गया है। महाराष्ट्र सरकार का मंत्रालय जलकर खाक हो चुका है। करीब आधा दर्जन मंत्रालय आग से जल चुके हैं। सरकारी फाइलें जल गईं और आग अब भी बुझाई नहीं जा सकी है।
इमारत में मुख्यमंत्री, उप मुख्यमंत्री और तमाम मंत्रियों के दफ्तर आग में जलकर खाक हो गए हैं। करीब ढाई हजार लोगों को बचा लिया गया है। मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण ने जांच मुंबई क्राइम ब्रांच को सौंप दी है। फिलहाल आग पर पूरी तरह से काबू नहीं पाया गया है।


महाराष्ट्र सरकार का ‘मंत्रालय’ यानि राज्य की सबसे अहम इमारत। वो इमारत जहां से राज्य को चलाया जाता है। इमारत में बैठते हैं राज्य के मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री और तमाम दूसरे मंत्री। यहीं से सरकार राज्य से जुड़े तमाम फैसले लेती है।


दोपहर करीब ढाई बजे मंत्रालय की चौथी मंजिल में आग लगी। राज्यमंत्री बब्बनराव पचपुटे के केबिन से आग शुरू हुई और देखते ही देखते आग ने पूरे मंत्रालय को अपनी चपेट में ले लिया। जब तक मंत्रालय में मौजूद लोग कुछ समझ पाते वो आग और धुएं की चपेट में फंस गए। बाहर निकलने का रास्ता तक न बचा। कुछ लोग खिड़की में फंस गए।
आग चौथी मंजिल से शुरू हुई और मुख्यमंत्री के दफ्तर तक पहुंच गई। सीएम दफ्तर और उपमुख्यमंत्री का दफ्तर जलकर खाक हो गया। ये दफ्तर छठी मंजिल पर है। राज्य सरकार के मुताबिक आग शॉर्ट सर्किट से लगी।
बेकाबू आग को काबू करने के लिए करीब 21 दमकल की गाड़ियां, पानी के दर्जनों टैंकर, करीब 200 फायर फाइटर और 6 एंबुलेंस की गाड़ियां मौके पर पहुंच गई। लेकिन आग की गंभीरता को देखते हुए
सरकार ने फोर्स वन और नेवी की टीम को भी बुला लिया। नेवी के हेलिकॉप्टर भी राहत के काम में लगाए गए। फायर ब्रिगेड़ के साथ मिलकर इमारत में फंसे लोगों को रेस्क्यू करने का काम उन्होंने शुरू किया।
गौरतलब है कि आग को मंत्रालय में मौजूद कागज की लाखों करोड़ों फाइलें जिन्होंने इस जबरदस्त गर्मी में फौरन भड़काया, जबरदस्त गर्मी और तेज हवा की वजह से आग तेजी से फैली और फायर ब्रिगेड के पहुंचने में करीब 20 मिनट की देरी हुई। आग की वजह से करीब डेढ़ दर्जन लोगों के जख्मी होने की खबर है। इनमें से एक दो की हालत गंभीर है। सभी घायलों को अलग अलग अस्पतालों में भर्ती कराया गया है।
शाम करीब साढ़े 6 बजे जब ऐसा लगा कि आग अब बुझ रही है। तभी हवा के झोंके ने आग को और भड़का दिया। आग की वजह से मंत्रालय के पीछे का हिस्सा सबसे ज्यादा प्रभावित हुआ है। खबर है कि इस भीषण आग की बलि कई अहम फाइलें चढ़ गईं। महाराष्ट्र सरकार ने आग लगने की वजहों की जांच का आदेश दे दिया है। लेकिन अच्छी खबर ये है कि इस आग से कोई जानी नुकसान नहीं हुआ है। मुख्यमंत्री समेत तमाम मंत्री सुरक्षित है।

ध्यान दें

प्रकाशित समाचारों पर आप अपनी राय या टिपण्णी भी भेज सकते हैं , हर समाचार के नीचे टिपण्णी पर क्लिक कर के .

घूमता कैमरा

लोकप्रिय समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.