ताजा समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

 

09 मई, 2012

हेलीकॉप्टर दुर्घटना में बाल-बाल बचे मुख्यमंत्रीअर्जुन मुंडा

झारखंड के मुख्यमंत्री अर्जुन मुंडा अपनी पत्नी के साथ बुधवार को उस समय बाल-बाल बच गए, जब उनका हेलीकोप्टर दुर्घटनाग्रस्त हो गया और हवाई अड्डे पर एक किनारे उतर गया। सरायकेला खरसावा जिले में आयोजित एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने जा रहे मुंडा और उनकी पत्नी मीरा को इस दुर्घटना में मामूली चोटें आई हैं। उन्हें अस्पताल ले जाया गया है। मुख्यमंत्री के दाहिने हाथ की हड्डी टूट गई है, तथा सीने व गर्दन में भी चोटें आई हैं। अपोलो अस्पताल के प्रवक्ता जावेद अख्तर ने बताया कि मुंडा और उनकी पत्नी मीरा मुंडा का अस्पताल में इलाज चल रहा है। अस्पताल के एक चिकित्सक पी।डी. सिन्हा ने कहा कि वह खतरे से बाहर हैं। उनके सीने, गर्दन और शरीर के अन्य हिस्सों में चोटें आई हैं। एक अधिकारी ने कहा कि तकनीकी गड़बड़ी के बाद दुर्घटनाग्रस्त हेलीकॉप्टर अपराह्न् 12.25 बजे जमीन पर उतर आया। हेलीकॉप्टर ने रांची से सुबह 11.45 बजे उड़ान भरी थी, लेकिन वह सरायकेला खरसावा जिले के कुचई में उतर नहीं पाया और वापस लौट आया। पुलिस सूत्रों ने कहा कि हेलीकॉप्टर हवा में लगभग 25 मीटर की ऊंचाई से जमीन पर उतरा। नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (डीजीसीए) ने घटना की जांच के आदेश दे दिए हैं। इस घटना के कारण रांची हवाई अड्डे पर सेवाएं बाधित हुई हैं, जो शाम तक ही बहाल हो पाएंगी।

सीएम अर्जुन मुंडा का हेलीकाप्टर खरसावां जिले के कुचायी में नहीं उतर पाया। वहां पायलट ने हेलीपैड को मानक के अनुरूप नहीं समझा। पायलट को लगा कि यहां हेलीकाप्टर उतारने से हादसा हो सकता है और प्राथमिक चिकित्सा नहीं मिल पाएगी। इस कारण पायलट ने हेलीकाप्टर को वापस रांची की ओर मोड़ लिया।

रांची एयरपोर्ट के निकट आकर पायलट को लग गया कि हेलीकाप्टर में तकनीकी खराबी आ चुकी है और वह अब एमरजैंसी लैंडिंग भी नहीं करा पायेंगे। इसके बाद जब यह तय हो गया था कि अब हेलीकाप्टर को गिरना ही गिरना है, कोई दूसरा विकल्प नहीं है तब पायलट ने रांची के बिरसा मुंडा हवाई अड्डे का चार-पांच चक्कर लगाया। पायलट ने सूझबुझ कर सारे निर्णय लेते हुए हवा में चक्कर लगाकर पूरे तेल को लगभग खत्म कर दिया ताकि आग न लग सके।

इस बीच जब भी वह हेलीकाप्टर को नीचे करने की कोशिश करे तो हेलीकाप्टर बेंड हो जा रहा था। इस बीच सीएम का पूरा कारकेड एयरपोर्ट पहुंच चुका था। वहां सारी व्यवस्था कर ली गयी थी। फायर ब्रिगेड से लेकर एम्बुलेंस तैयार था। इसी बीच बड़ी तेज आवाज़ के साथ सीएम का हेलीकाप्टर नीचे गिर गया।

मुख्यमंत्री अर्जुन मुंडा, उनकी पत्नी मीरा मुंडा, मुख्यमंत्री के सुरक्षा अधिकारी मनोज कुमार सिंह, विधायक बड़कुंवर गागराई व पायलट सभी जख्मी हो गए। हेलीकाप्टर एयरपोर्ट पर पूरी तरह से पलट गया।

हेलीकाप्टर जब नीचे गिरा तब वह 20 से 25 फीट की उंचाई पर था। इतनी उंचाई से गिरने पर चोटें लगनी लाजिमी है। सभी को अंदरूनी चोटें आयीं हैं। पायलट अनुभवी था और उसने पूरी कोशिश से हेलीकाप्टर को एयरपोर्ट परिसर में खाली जगह में ही गिराया।

आधी मुंडा सरकार अपोलो में

मुख्यमंत्री अर्जुन मुंडा के अपोलो पहुंचने की खबर फैलते ही आधी सरकार वहां पहुंची हुई है। कई मंत्री, नेता, सीएस, डीजीपी समेत कई अधिकारी मौके पर कैंप कर रहे हैं।

ध्यान दें

प्रकाशित समाचारों पर आप अपनी राय या टिपण्णी भी भेज सकते हैं , हर समाचार के नीचे टिपण्णी पर क्लिक कर के .

घूमता कैमरा

लोकप्रिय समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.