ताजा समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

 

13 अक्तूबर, 2009

तीन राज्यों में विस चुनाव, मतदान जारी

महाराष्ट्र, हरियाणा और अरुणाचलप्रदेश में विधानसभा चुनाव के तहत मंगलवार सुबह मतदान शुरू हो गया। छह माह पहले हुए लोकसभा चुनाव के बाद प्रमुख राजनीतिक दलों की लोकप्रियता के ग्राफ के हिसाब से ये चुनाव काफी महत्वपूर्ण माने जा रहे हैं।

इन चुनावों में कांग्रेस की प्रतिष्ठा दाँव पर है, क्योंकि हरियाणा और अरुणाचलप्रदेश में वह सत्तारूढ़ दल है तो महाराष्ट्र में शरद पवार के नेतृत्व वाली राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के साथ सत्ता में भागीदार है। महाराष्ट्र में उसका मुकाबला भाजपा और शिवसेना गठबंधन से है, जो इन चुनाव को ‘करो या मरो’ की नजर से देख रहा है।

निर्वाचन आयोग ने मतदान के लिए सुरक्षा के पर्याप्त बंदोबस्त किए हैं और महाराष्ट्र के नक्सल प्रभावित इलाकों में शांतिपूर्ण मतदान संपन्न कराने के लिए विशेष उपाय किए गए हैं।

इन राज्यों में विधानसभा चुनाव के लिए प्रचार अभियान कुल मिलाकर शांतिपूर्ण रहा था, लेकिन पिछले सप्ताह नक्सलियों ने महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में चुनाव से मात्र पाँच दिन पहले घात लगाकर हमला किया और 17 पुलिसकर्मियों की हत्या कर दी। निर्वाचन आयोग ने अकेले महाराष्ट्र में शांतिपूर्ण तरीके से मतदान संपन्न कराने के लिए 18 हजार केन्द्रीय पुलिस बलों को तैनात किया है।

चार सप्ताह से अधिक समय तक चले चुनाव प्रचार अभियान के तहत कांग्रेस, भाजपा और अन्य प्रमुख क्षेत्रीय पार्टियों के कद्दावर नेताओं ने इसमें हिस्सा लिया।

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी, पार्टी महासचिव राहुल गाँधी तथा प्रधानमंत्री मनमोहनसिंह ने तीनों राज्यों का तूफानी दौरा किया तो वहीं भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी, राजनाथसिंह, सुषमा स्वराज, अरुण जेटली तथा एम. वेंकैया नायडू ने पार्टी के चुनाव प्रचार अभियान की अगुआई की।

कांग्रेस महाराष्ट्र में जहाँ राकांपा के साथ मिलकर लगातार तीसरी बार सत्ता पर अपना दबदबा बनाए रखने के लिए मैदान में है, वहीं शिवसेना और भाजपा भी दस साल पहले खोयी सत्ता को फिर से हासिल करने के लिए बुरी तरह हाथ-पैर मार रही है।

लोकसभा चुनाव में खराब प्रदर्शन के बाद कांग्रेस के नेतृत्व वाले गठबंधन की प्रमुख पार्टी राकांपा अपनी स्थिति को मजबूत करने के लिए जी-तोड़ प्रयास कर रही है।

प्रदेश की अमरावती सीट पर सभी की निगाहें लगी हैं, जहाँ से राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल के पुत्र राजेंद्र शेखावत कांग्रेस की टिकट पर पार्टी के ही बागी उम्मीदवार सुनील देशमुख के खिलाफ मैदान में हैं।

उधर, हरियाणा में कांग्रेस विकास के नाम पर लगातार दूसरी बार जनादेश हासिल करने के लिए मैदान में है और उसे कोई खास खतरा नहीं दिख रहा है। राज्य में विपक्ष एक प्रकार से बिखरा हुआ है, क्योंकि भाजपा का ओमप्रकाश चौटाला की अगुआई वाली इनेलो से गठबंधन समाप्त हो चुका है।

बसपा हरियाणा जनहित कांग्रेस का दामन छोड़ चुकी है, जिसकी अगुआई पूर्व मुख्यमंत्री भजनलाल कर रहे हैं। लोकसभा चुनाव में राज्य की दस में से नौ सीटों पर कब्जा जमाने के बाद से काफी उत्साहित प्रदेश कांग्रेस ने निर्धारित समय से सात माह पूर्व ही विधानसभा चुनाव कराने का फैसला कर लिया था।

उधर, अरुणाचलप्रदेश में भी कांग्रेस काफी मजबूत स्थिति में दिख रही है, जहाँ मुख्यमंत्री खांडू दोरजी उन तीन पार्टी उम्मीदवारों में शामिल हैं, जिन्हें पहले ही निर्विरोध निर्वाचित कर लिया गया है।

महाराष्ट्र में 288 विधायकों के भाग्य का फैसला 7.58 करोड़ मतदाताओं के हाथ में है तो वहीं हरियाणा में एक करोड़ 31 लाख मतदाता 90 विधायकों का चयन करेंगे। अरुणाचलप्रदेश में सात लाख 50 हजार मतदाता अपने 60 प्रतिनिधियों को चुनने के लिए अपने मताधिकार का इस्तेमाल करेंगे। तीनों राज्यों के लिए मतों की गिनती का काम 22 अक्टूबर को होगा।

महाराष्ट्र : विधानसभा की 288 सीटों के लिए यहाँ 3536 प्रत्याशी चुनाव मैदान में हैं। सात करोड़ 58 लाख 11 हजार 245 मतदाता इनक सियासी भाग्य का फैसला करेंगे। इनमें से तीन करोड़ 60 लाख 76 हजार 469 महिलाएँ हैं। मतदान के लिए 84136 मतदान केंद्र बनाए गए हैं, जहाँ 112425 इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों से मतदान कराया जा रहा है।

हरियाणा : यहाँ एक करोड़ बीस लाख से ज्यादा मतदाता विधानसभा के 90 सदस्यों के निर्वाचन के लिए मत डालेंगे। यहाँ कांग्रेस की सरकार है और मुख्यमंत्री भूपिंदरसिंह हुड्डा विकास के आधार पर दोबारा चुने जाने का दावा कर रहे हैं। विपक्ष बिखरा नजर आता है। भाजपा और इंडियन नेशनल लोक दल का गठबंधन टूट चुका है। भाजपा अकेले चुनाव लड़ रही है।

अरुणाचलप्रदेश : विधानसभा की 60 सीटें हैं, जिन पर 150 से ज्यादा उम्मीदवार चुनाव लड़ रहे हैं। राज्य के मुख्यमंत्री दोरजी खांडू समेत तीन सदस्य पहले ही निर्विरोध निर्वाचित हो चुके हैं। तीनों राज्यों में मतगणना 22 अक्टूबर को होगी।

कांग्रेस प्रत्याशी हिरासत में, रिहा : मुंबई के भारतनगर से कांग्रेस प्रत्याशी जनार्दन चाँदूरकर को हिरासत में लेने के बाद छोड़ दिया। उन पर वोट के लिए पैसे देने का आरोप है। चाँदूरकर को लोगों ने पैसे देने की खबर लगते ही घेर लिया और फिर पुलिस को बुला लिया। चाँदूरकर बाँद्रा (पूर्व) से मैदान में हैं।

सचिन तेंडुलकर, अनिल अंबानी ने डाला वोट : मशहूर क्रिकेटर सचिन तेंडुलकने अपनी पत्नी अंजलि के साथ, ख्यात उद्योगपति अनिल अंबानी, एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार, बॉलीवुड अभिनेता राहुल बोस, लातूर से कांग्रेस प्रत्याशी और महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री विलासराव देशमुख के बेटे सुनील देशमुख, उद्धव ठाकरे की पत्नी रश्मि ठाकरे, कांग्रेस नेता मिलिंद देवड़ा, फिल्म अभिनेत्री नगमा, प्रिया दत्त, बाल ठाकरे, राज ठाकरे, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण और भाजपा प्रत्याशी पूनम महाजन ने सुबह में अपने मताधिकार का प्रयोग किया।

पूनम ने वर्ली सी फेस से वोट डाला। भाजपा के कद्दावर नेता प्रमोद महाजन की विरासत संभालने जा रहीं पूनम घाटकोपर (पश्चिम) विस क्षेत्र से अपनी सियासी किस्मत आजमा रही हैं।

ध्यान दें

प्रकाशित समाचारों पर आप अपनी राय या टिपण्णी भी भेज सकते हैं , हर समाचार के नीचे टिपण्णी पर क्लिक कर के .

घूमता कैमरा

लोकप्रिय समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.