ताजा समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

 

29 सितंबर, 2009

कारोबार की दुनिया में दिखा भारतीय महिलाओं का दम

कारोबार की दुनिया में भारतीय महिलाओं का दमखम दिनों दिन बढ़ रहा है। ब्रिटेन के बिजनेस अखबार फाइनेंशियल टाइम्स की 'कारोबारी दुनिया की 50 शीर्ष महिलाओं' की सूची इसका सबूत है।

इस सूची में चार भारतीय महिलाओं ने अपनी मौजूदगी दर्ज कराई है। इनमें कोला क्वीन के नाम से मशहूर भारतीय मूल की इंदिरा नूई इस सूची में शीर्ष पर हैं। ब्रिटानिया की सीईओं विनीता बाली को 22वें, बायोकान की किरण मजूमदार शा को 47वें व एचटी मीडिया की शोभना भरतिया को 48 वें पायदान पर रखा गया है। भारतीय मूल की पद्मश्री वारियर को भी सूची में जगह मिली है। वह कंप्यूटर कंपनी सिस्को की सीटीओ हैं।

एक अन्य सूची '50 टाप वुमन टु वाच' में भी तीन भारतीय महिलाओं को जगह मिली है। इनमें स्विस बैंक यूबीएस इंडिया की सीईओ मनीषा ग्रिओरत्रा, ग्लोबल बैंक एचएसबीसी इंडिया की प्रमुख नैना लाल किदवई और कंप्यूटर फर्म एचपी इंडिया की एमडी नीलम धवन शामिल हैं।

फाइनेंशियल टाइम्स की 'टाप 50 वुमन इन व‌र्ल्ड बिजनेस' की इस सूची में पेप्सिको की सीईओ नूई के बाद अमेरिकी कंपनी एवन प्रोडक्ट्स की ऐंड्रिया जुंग को दूसरा स्थान मिला है। फ्रांसीसी कंपनी एरेवा की प्रमुख एनी लावर्जिअन तीसरे पायदान पर हैं। फाइनेंशियल टाइम्स ने इन उपलब्धियों को महत्वपूर्ण करार देते हुए कहा कि फा‌र्च्यून 500 की सूची में शामिल कंपनियों की केवल तीन फीसदी महिलाएं सीईओ हैं। बड़ी कंपनियों के डायरेक्टरों में महिलाओं का हिस्सा 10 फीसदी है। एशिया में यह अनुपात और भी कम है। इस मामले में नार्वे की स्थिति बेहतर है, क्योंकि वहां बोर्ड में महिलाओं के लिए 40 फीसदी कोटा आरक्षित है। अखबार की राय में महिलाओं का बेहतर प्रतिनिधित्व कंपनी के कारोबार पर अनुकूल असर डालता है।

ध्यान दें

प्रकाशित समाचारों पर आप अपनी राय या टिपण्णी भी भेज सकते हैं , हर समाचार के नीचे टिपण्णी पर क्लिक कर के .

घूमता कैमरा

लोकप्रिय समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.