ताजा समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

 

30 सितंबर, 2009

अयोध्या फिर बनने लगी भगवा ब्रिगेड का मुख्यालय

पांच साल बाद रामबारात, बीस साल बाद शिलापूजन, और न जाने कितने साल बाद शीर्ष सन्तों का ऐसा जमावड़ा। कोई खुलकर नहीं कहता, लेकिन अयोध्या में अरसे बाद विश्व हिन्दू परिषद की गतिविधियों में इजाफा खुद-ब-खुद बहुत कुछ कह रहा है। कयास लगाये जा रहे हैं कि हिन्दी बेल्ट में भाजपा को विश्वसनीयता के संकट से उबारने का कोई और उपाय कामयाब न होते देख संघ परिवार दुबारा उसी 'राम मन्दिर' की शरण में जाने की तैयारी कर रहा है, जिसने पिछले दशक में संघ के स्वयंसेवकों को 'दिल्ली' और 'लखनऊ' के सत्ता सिंहासनों तक पहुंचाया था।

विश्व हिन्दू परिषद के केन्द्रीय मंत्री पुरुषोत्तम नारायण सिंह स्वीकार करते हैं कि अगले साल हरिद्वार कुंभ के अवसर पर चार से छह अप्रैल तक विहिप मार्गदर्शक मंडल की बैठक व सन्त सम्मेलन में राम मन्दिर निर्माण के बारे में कोई महत्वपूर्ण निर्णय संभव है, यद्यपि वह अयोध्या में बढ़ रही संघ परिवार व सन्तों को सक्रियता को सिर्फ संयोग बताते हैं। वैसे इससे पहले दिसंबर में विहिप गवर्निग बाडी की बैठक इन्दौर में होने जा रही है, जिसमें भावी कार्यक्रमों के बारे में विचार किया जाएगा।

अयोध्या में सरगर्मी की शुरुआत 21 अक्टूबर को ही हो जाएगी, जब संघ परिवार द्वारा आयोजित विश्व मंगल गो ग्राम यात्रा वहां पहुंचेगी। चार से सात नवंबर तक विहिप खेमे के सन्त हंसदास महाराज [हरिद्वार] अपने गुरुदेव की पुण्यतिथि पर वहां विराट सन्त सम्मेलन आयोजित करेंगे। इस सम्मेलन में शंकराचार्यो सहित देश भर के जाने-माने सन्त शामिल होंगे। पिछले साल यह सम्मेलन पानीपत में हुआ था, जहां सर संघ चालक व कई वरिष्ठ भाजपा नेता भी पहुंचे थे। इसके तुरन्त बाद नौ से ग्यारह नवंबर तक विहिप द्वारा 'शिलापूजन' कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है। इससे पहले अयोध्या में नौ नवंबर, 1989 को शिलापूजन व शिलान्यास कार्यक्रम हुए थे। अब बीस साल बाद दुबारा हो रहे इस आयोजन को विहिप पदाधिकारी सामान्य एवं स्थानीय आयोजन बता रहे हैं, लेकिन सूत्रों का कहना है कि यह कार्यक्रम संघ परिवार की भावी रणनीति का संकेत है। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष डा.रमापति राम त्रिपाठी कहते हैं कि हिन्दुत्व को लेकर संघ परिवार जो भी कार्यक्रम करेगा, भाजपा कार्यकर्ता उसमें बढ़-चढ़कर हिस्सा लेंगे।

नवंबर में ही अयोध्या में अलग-अलग कार्यक्रमों के सिलसिले में पुरी के शंकराचार्य निश्चलानन्द सरस्वती, उडपी के माधवाचार्य स्वामी विश्वेषतीर्थ, स्वामी राम भद्राचार्य व कई अन्य शीर्ष सन्त मौजूद रहेंगे। संभावना है कि ये सन्त राम शिलापूजन में भी शामिल होंगे। इसी कड़ी में अयोध्या में पांच साल बाद रामबारात की परंपरा दुबारा शुरू होने जा रही है, जिसमें स्थानीय सन्त बारह नवम्बर को रामबारात लेकर जनकपुरी [नेपाल] के लिए रवाना होंगे। विहिप मंत्री पुरुषोत्तम नारायण सिंह बताते हैं कि अगले साल 14 जनवरी तक पूरा संघ परिवार विश्व मंगल गो ग्राम यात्रा में जुटा रहेगा। इसके बाद होने वाला हरिद्वार कुंभ कई दृष्टियों से महत्वपूर्ण है। श्री सिंह ने बताया कि कुंभ में देश भर के सन्तों की जुटान के बीच चार से छह अप्रैल तक विहिप मार्गदर्शक मंडल की बैठक व सन्त सम्मेलन आयोजित किये जाएंगे, जिनमें अन्य मुद्दों के अलावा सन्तों द्वारा राम मन्दिर निर्माण के बारे में भी कोई महत्वपूर्ण निर्णय किये जाने की संभावना है।

ध्यान दें

प्रकाशित समाचारों पर आप अपनी राय या टिपण्णी भी भेज सकते हैं , हर समाचार के नीचे टिपण्णी पर क्लिक कर के .

घूमता कैमरा

लोकप्रिय समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.