ताजा समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

 

20 जून, 2012

कपड़ा मंत्री मखदूम हो सकते हैं पाकिस्तान के अगले प्रधानमंत्री

पाकिस्तान का नया प्रधानमंत्री कौन बनेगा आज इसका ऐलान होगा। नए पीएम के नाम पर विचार के लिए मंगलवार को पीपीपी की बैठक भी हुई। पीपीपी के कुछ सीनियर नेताओं की बैठक में प्रधानमंत्री पद के लिए नाम तय करने का अधिकार आसिफ अली जरदारी और बिलावल भुट्टो को सौंप दिया गया। माना जा रहा है कि आज पार्टी संसदीय दल की बैठक के बाद नए प्रधानमंत्री के नाम की घोषणा कर दी जाएगी।
बुधवार सुबह ऐसी खबर आईं कि पाकिस्तान के नए प्रधानमंत्री के तौर पर मखदूम शहाबुद्दीन का नाम सबसे ऊपर है। जिओ टीवी के हवाले से पाकिस्तान के नए पीएम के तौर पर मखदूम शहाबुद्दीन के नाम पर पार्टी ने अंतिम फैसला कर लिया है। ऐसा माना जा रहा है कि मखदूम के नाम का औपचारिक ऐलान आज किया जा सकता है। मखदूम शहाबुद्दीन फिलहाल कपड़ा मंत्री हैं।
पाकिस्तान के सर्वोच्च न्यायालय ने कहा था कि यूसुफ रजा गिलानी प्रधानमंत्री एवं सांसद के रूप में न्यायालय की अवमानना के लिए 26 अप्रैल को दोषी ठहराए जाने के दिन से ही अयोग्य हैं। इस बीच सत्तारुढ़ पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) ने न्यायालय के निर्णय को स्वीकार करते हुए अगले प्रधानमंत्री के विषय में निर्णय लेने के लिए सहयोगी दलों की बैठक बुलाई।
उधर विपक्षी दलों ने नये सिरे से चुनाव कराने की मांग की है। पीपीपी ने मध्यावधि चुनाव की सम्भावनाओं से इंकार करते हुए बुधवार को पार्टी संसदीय दल की बैठक बुलाई।
गिलानी ने शीर्ष न्यायालय के निर्देश के बावजूद राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी के खिलाफ भ्रष्टाचार के मामलों को फिर से खोलने के लिए स्विस प्रशासन को पत्र लिखने से इनकार कर दिया था।
डॉन न्यूज द्वारा जारी रपट के अनुसार राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी ने अगले प्रधानमंत्री के विषय में निर्णय लेने के लिए सहयोगी दलों की बैठक प्रेसीडेंट हाउस में बुलाई। बैठक में जरदारी द्वारा प्रस्तावित कुछ नामों पर विचार किया गया। उम्मीद की जा रही है कि अगले 24 घंटों में गिलानी के उत्तराधिकारी के विषय में निर्णय हो जाएगा।
पीपीपी की केंद्रीय कार्यकारी समिति की बैठक में न्यायालय के निर्णय को स्वीकार करने का निर्णय लिया गया। इस बैठक में जरदारी एवं गिलानी उपस्थित थे।
पीपीपी के महासचिव जहांगीर बद्र ने बैठक के बाद संवाददाता सम्मेलन में कहा कि प्रधानमंत्री के नाम पर विचार करने के लिए बुधवार को पार्टी संसदीय दल की बैठक होगी। संघीय मंत्रिमंडल के विषय में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री को अयोग्य ठहराए जाने के बाद से यह भी भंग हो गई है।
प्रधान न्यायाधीश इफ्तिखार मोहम्मद चौधरी, न्यायमूर्ति जव्वाद एस. ख्वाजा और न्यायमूर्ति खिलजी आरिफ हुसैन की तीन सदस्यीय पीठ ने गिलानी के प्रधानमंत्री के तौर पर अयोग्यता के मुद्दे पर नेशनल एसेम्बली की स्पीकर फहमिदा मिर्जा के फैसले के खिलाफ संवैधानिक याचिकाओं पर सुनवाई की।
याचिकाएं पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन), पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) और वकील अजहर चौधरी की ओर से गिलानी की योग्यता के मुद्दे पर दायर की गई थीं। इन याचिकाओं में स्पीकर के उस फैसले को चुनौती दी गई थी जिसमें कहा गया था कि न्यायालय की अवमानना का दोषी होने पर भी गिलानी प्रधानमंत्री पद के लिए अयोग्य नहीं हैं।
सात सदस्यीय पीठ ने 26 अप्रैल को गिलानी को न्यायालय की अवमानना का दोषी ठहराया था। न्यायालय ने हालांकि उन्हें अदालत उठने तक या न्यायाधीशों के अदालत कक्ष छोड़ने तक की सजा सुनाई थी। इस तरह यह सजा मात्र 30 सेकंड की रही।
मुख्य न्यायाधीश इफ्तिखार अहमद चौधरी ने आदेश में कहा, "यूसुफ रजा गिलानी संसद का सदस्य होने के लिए अयोग्य हो चुके हैं। वह उसी दिन (26 अप्रैल) से प्रधानमंत्री भी नहीं है।" सरकार ने 14 जून को नेशनल एसेम्बली में एक प्रस्ताव पेश किया था और उसे मंजूरी मिल गई थी।
पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज के अध्यक्ष एवं पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने न्यायालय के निर्णय का स्वागत करते हुए नेशनल असेम्बली भंग कर फिर से चुनाव कराने की मांग की।

ध्यान दें

प्रकाशित समाचारों पर आप अपनी राय या टिपण्णी भी भेज सकते हैं , हर समाचार के नीचे टिपण्णी पर क्लिक कर के .

घूमता कैमरा

लोकप्रिय समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.