ताजा समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

 

31 जुलाई, 2010

नामोनिशान नहीं बचा मोहम्मद रफी की कब्र का

(31 जुलाई को पुण्यतिथि पर)
तेजी से बढ़ती आबादी और आवास की विकराल समस्या के मद्देनजर मुंबई के जुहू स्थित एक कब्रिस्तान की जगह पर इमारत बनाने का फैसला किया गया और इसके लिए खोदी गई कब्रों में एक कब्र महान पार्श्व गायक मोहम्मद रफी की भी थी।

मुंबई के इंटीरियर डिजाइनर रूपेश ने बताया कि मुंबई में आवास की विकराल समस्या है, इसीलिए जूहू स्थित कब्रिस्तान की जगह पर एक इमारत बनाने का फैसला किया गया। इसके लिए वहाँ कब्रें खोदी गईं, जिनमें रफी, नौशाद, मधुबाला आदि की कब्रें भी थीं। इस इमारत की अंदरूनी सज्जा के लिए आवेदन करने वालों में रूपेश भी थे लेकिन यह काम उन्हें नहीं मिला।

रफी फैन क्लब चलाने वाले बीनू नायर कहते हैं ‘अब हम रफ़ी की कब्र के समीप खड़े नारियल के एक पेड़ के समीप एकत्र हो कर उन्हें श्रद्धांजलि देते हैं।’ 31 जुलाई 1980 को दिल का दौरा पड़ने से इस दुनिया को विदा कहने वाले रफी ने हिन्दी फिल्मों के लगभग हर बड़े सितारे को अपनी आवाज दी थी। उन्हें 1965 में पद्मश्री से सम्मानित किया गया।

बॉलीवुड में बार बार पिच बदल कर गाने यानी योडिलिंग की शुरूआत रफ़ी ने ही पाश्र्वगायन के दौरान की थी। उनके कुछ पुराने गीत ‘हैलो स्वीट सेवेन्टीन’ ‘ओ चले हो कहाँ’, ‘दिल के आइने में’ और ‘उनसे रिप्पी टिप्पी हो गयी’ इसके उदाहरण हैं।

24 दिसंबर 1924 को जन्मे रफ़ी की गायन प्रतिभा उनके मामा ने पहचानी और फिर रफ़ी ने उस्ताद बड़े गुलाम अली खान, उस्ताद वाहिद खान, पंडित जीवनलाल मट्टू और फि़रोज निज़ामी से शास्त्रीय संगीत सीखा।

लाहौर से 1944 में रफी मुंबई आए और नौशाद के साथ गायन का सफर तथा दोस्ती का एक अटूट रिश्ता शुरू हुआ। पहले नौशाद की पसंद तलत महमूद थे, लेकिन बाद में नौशाद इस कदर रफ़ी के दीवाने हुए कि इस जोड़ी ने 149 गीत दिए । इनमें 81 गीत रफ़ी के सोलो थे। 1950 के दशक से 1960 के दशक तक रफ़ी ओपी नैयर, शंकर जयकिशन और एस डी बर्मन जैसे संगीतकारों के पसंदीदा गायक बने रहे।

वर्ष 1945 में ‘लैला मजनू’ के लिए रफी ने ‘तेरा जलवा जिसने देखा’’ गाया और स्क्रीन पर भी नजर आए। वर्ष 1947 में देश का विभाजन होने के बाद रफी का नूरजहाँ के साथ गाया गीत ‘यहाँ बदला वफा का’ खासा लोकप्रिय हुआ। रफी भारत में ही रहे।

वर्ष 1948 में रफी ने राजेन्दर कृष्ण का लिखा गीत ‘सुनो सुनो ऐ दुनिया वालो बापू की ये अमर कहानी’ गाया। यह गीत सुन कर तत्कालीन प्रधानमंत्री पं जवाहरलाल नेहरू ने रफी को आमंत्रित किया। रफी ने नेहरू के घर पर उन्हें यह गीत सुनाया। इसी साल स्वतंत्रता दिवस पर नेहरू ने रफी को रजत पदक प्रदान किया।

पाँच राष्ट्रीय फिल्म अवॉर्ड और छह फिल्मफेयर अवॉर्ड अपने नाम करने वाले रफ़ी ने 31 जुलाई 1980 को अंतिम साँस ली और अपने पीछे गीतों की एक समृद्ध विरासत छोड़ गए।

ध्यान दें

प्रकाशित समाचारों पर आप अपनी राय या टिपण्णी भी भेज सकते हैं , हर समाचार के नीचे टिपण्णी पर क्लिक कर के .

घूमता कैमरा

लोकप्रिय समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.