ताजा समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

 

19 जुलाई, 2010

रेल दुर्घटना में 67 लोगों की मौत

पश्चिम बंगाल के बीरभूम जिले में सोमवार तड़के सैंथिया स्टेशन पर खड़ी वनांचल एक्सप्रेस को उत्तर बंग एक्सप्रेस ने पीछे से टक्कर मार दी, जिससे 67 लोगों की मौत हो गई तथा 150 से अधिक लोग घायल हो गए।
राज्य में दो महीने के भीतर यह दूसरी बड़ी रेल दुर्घटना है। इससे पहले मई में हुए ज्ञानेश्वरी एक्सप्रेस हादसे में भी करीब 150 लोगों की मौत हो गई थी।
मृतकों के परिजनों को मुआवजा : घटनास्थल पर पहुँची रेलमंत्री ममता बनर्जी ने मृतकों के परिजनों को पाँच-पाँच लाख रुपए तथा घायलों के इलाज के लिए 25-25 हजार रुपए की अनुग्रह राशि देने की घोषणा की। इसके अलावा मृतक के परिवार के एक सदस्य को नौकरी भी दी जाएगी।
पश्चिम बंगाल सरकार ने भी मृतकों के परिजनों को तीन-तीन लाख रुपए की सहायता देने की घोषणा की है। राज्य के वित्तमंत्री असीम दासगुप्ता ने घटनास्थल के लिए रवाना होने से पहले इस आशय की घोषणा करते हुए कोलकाता में कहा कि राज्य सरकार घायलों के उपचार के सभी इंतजाम करेगी।
राष्ट्रीय आपदा राहत बल के 140 जवानों वाली पाँच टीमें सैंथिया स्टेशन पर भेजी गई हैं। सेना के जवान भी राहत एंव बचाव के काम में जुट गए हैं। सेना के इंजीनियरों एवं धातु काटने वाले विशेषज्ञों ने मौके पर पहुँचकर हादसे का शिकार लोगों की मदद का काम तेजी से शुरू कर दिया है।
पूर्वी क्षेत्र में रक्षा मंत्रालय के मुख्य प्रवक्ता महेश उपासनी ने फोन पर बताया कि सेना के सात अधिकारी और 106 जवान पानागढ़ एवं कचरापाड़ा से घटना की सूचना मिलते ही घटनास्थल की ओर रवाना कर दिए गए।
बीरभूम के जिला मजिस्ट्रेट सौमित्र मोहन ने बताया कि मृतकों की संख्या बढ़ने की आशंका है। बचाव दल के सदस्य ट्रेन के डिब्बों में फँसे लोगों को निकालने की कोशिश कर रहे हैं। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि सैंथिया स्टेशन पर दवाओं और जीवनरक्षक उपकरणों से लैस दो रेलवे मेडिकल वैन घायलों को चिकित्सा सुविधाएँ प्रदान कर रही हैं।
कई ट्रेनों का मार्ग परिवर्तन : सूत्रों ने बताया कि यहाँ फँसे यात्रियों को कोलकाता पहुँचाने के लिए तीन राहत ट्रेनें भी चलाई गई हैं। दुर्घटना के कारण डाउन लाइन को बंद कर दिया गया है, जिसकी वजह से लम्बी दूरी की कई ट्रेनों का मार्ग परिवर्तित कर दिया गया है, जबकि कुछ ट्रेनों को रद्द भी करना पड़ा है। यात्रियों के बारे में नवीनतम सूचना देने के लिए हावडा और सियालदह स्टेशन पर दो नियंत्रण कक्ष बनाए गए हैं।
रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष विवेक सहाय, सदस्य इलेक्ट्रिकल सुदेश कुमार, रेल स्वास्थ्य सेवाओं के महानिदेशक डॉ. रामटेक तथा पूर्व रेलवे और हावड़ा मंडल के वरिष्ठ अधिकारी मौके पर बचाव एवं राहत कार्यों की निगरानी कर रहे हैं।
आम जनता की सुविधा के लिए हावड़ा, सैंथिया, सियालदह, वर्धमान, मालदा, जमालपुर, धनबाद, कटिहार, न्यू जलपाईगुड़ी, न्यू कूच बिहार, राँची, हटिया और बोकारो स्टील सिटी रेलवे स्टेशनों पर हेल्पलाइन सेवा शुरू की गई है।
इस दुर्घटना के कारण हावड़ा-अमृतसर एक्सप्रेस और हावड़ा-रामपुरहाट-हावड़ा पैसेंजर ट्रेनों को रद्द कर दिया गया है। इसके अलावा कोलकाता-बालुरघाट एक्सप्रेस, राँची-गुवाहाटी एक्सप्रेस, अलीपुर दुआर-सियालदह एक्सप्रेस और सिकंदराबाद-गुवाहाटी एक्सप्रेस के मार्ग में तथा हावड़ा-भोपाल एक्सप्रेस के समय में परिवर्तन किया गया है।
सोनिया ने ट्रेन दुर्घटना पर दु:ख जताया : कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी ने पश्चिम बंगाल में हुई ट्रेन दुर्घटना पर गहरा दु:ख व्यक्त करते हुए मारे गए लोगों के परिजनों के प्रति गहरी संवेदना प्रकट की और घायल हुए लोगों के जल्द स्वस्थ होने की कामना की।
हेल्पलाइन नंबर--
सियालदह -033 23503535, 033-23503537
माल्दा -06436-222061
भागलपुर 06412-4222433
जमालपुर 063444-3101

ध्यान दें

प्रकाशित समाचारों पर आप अपनी राय या टिपण्णी भी भेज सकते हैं , हर समाचार के नीचे टिपण्णी पर क्लिक कर के .

घूमता कैमरा

लोकप्रिय समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.