ताजा समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

 

12 फ़रवरी, 2010

आधी रात से ही शुरू हो गया शाही स्नान

तीर्थ नगरी हरिद्वार में आयोजित सदी के पहले महाकुंभ के अवसर पर पहले शाही स्नान में आधी रात के बाद से ही श्रद्धालुओं ने कड़ी सुरक्षा के बीच गंगा में डुबकी लगाना शुरू कर दिया। हालाँकि विभिन्न संन्यासी अखाड़ों का शाही स्नान दिन के 11 बजे से शुरू हुआ।

शाही स्नान के लिए मेला प्रशासन ने जहाँ करीब 130 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैले मेला क्षेत्र के चप्पे-चप्पे पर सुरक्षाकर्मियों की तैनाती की है, वहीं प्रमुख स्थल हर की पैड़ी को रैपिड एक्शन फोर्स के हवाले कर दिया गया है।

मेला क्षेत्र के पुलिस उपमहानिरीक्षक आलोक शर्मा ने बताया कि पूरे मेला क्षेत्र में कुल 32 थाने बनाए गए हैं और उन सभी थानों में पुलिस निरीक्षकों के नेतृत्व में पुलिस टुकड़ी तैनात की गई है। इसके अतिरिक्त 25 सेक्टरों में सेक्टर अधिकारी की तैनाती की गई है।

उन्होंने कहा कि यातायात, अग्निशमन और राजकीय रेल थाना अलग से बनाए गए हैं तथा मेला क्षेत्र के लिए अलग से पुलिस लाइन भी स्थापित की गई है, जहाँ सुरक्षाकर्मियों की अतिरिक्त टुकड़ियों को आरक्षित रखा गया है।

शर्मा ने बताया कि पूरे मेला क्षेत्र में पुलिस के 5759 जवान तैनात किए गए हैं। इसके अतिरिक्त केन्द्रीय सुरक्षा बल की नौ कम्पनियों को आज तैनात किया गया है।

शाही स्नान के लिए उत्तरप्रदेश की पीएसी की 15 कम्पनी, रैपिड एक्शन फोर्स की छह कम्पनी, भारत तिब्बत सीमा पुलिस की तीन टीम और 150 कमाण्डो, आपदा प्रबंधन बल की दो कम्पनी तथा इसके अतिरिक्त गुलदार कमाण्डो की एक कम्पनी को तैनात किया गया है।

उत्तरप्रदेश से 20 घुड़सवारों, सीमा सुरक्षा बल के 20 जासूसी कुत्तों को भी तैनात किया गया है। शर्मा ने बताया कि सभी थानों में पुलिस बल को समुचित संख्या में तैनात कर उन्हें आज के लिए विशेष रूप से सतर्क रहने को कहा गया है।

उन्होंने बताया कि चण्डीघाट पुल, जगजीतपुर, नजीबाबाद मार्ग पर चार दशमलव दो किलोमीटर के मील पत्थर, भगवानपुर स्थानों पर वाहनों की कड़ी जाँच करने के बाद ही उन्हें मेला क्षेत्र में आने दिया जा रहा है।

इन स्थानों पर केन्द्रीय सुरक्षा बल की एक कम्पनी तथा कुछ पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है।

स्नान के दौरान सभी पुलों और सार्वजनिक स्थानों पर कड़ी निगाह रखी जा रही है। हर की पैड़ी पर रैपिड एक्शन फोर्स के जवान पूरी मुस्तैदी से तैनात हैं।

सभी 13 सन्यासी अखाड़ों ने आज के स्नान के लिए अपने सदस्यों को पहचान पत्र जारी किया है ताकि साधु के वेश में कोई अन्य व्यक्ति शाही स्नान के जुलूस में प्रवेश न कर सके।

मेला क्षेत्र के पुलिस उप महानिरीक्षक आलोक शर्मा ने शाही स्नान के लिए सुरक्षा बलों ने कल रिहर्सल की थी और इस दौरान सभी कुछ ठीकठाक पाया गया था। मेला क्षेत्र में कुल सौ क्लोज टीवी सर्किट के माध्यम से सभी स्नानार्थियों पर कड़ी निगाह रखी जा रही है। जासूसी कुत्तों और बम निरोधक दस्तों द्वारा जगह जगह लगातार गश्त की जा रही है।

उन्होंने बताया कि मेला क्षेत्र में बिना किसी उद्देश्य के घूम रहे साधु वेशधारी लोगों और अन्य लोगों पर कड़ी निगाह रखी जा रही है तथा उनसे पूछताछ भी की जा रही है। ऐसे कुछ लोगों को थाने में ले जाकर पूछताछ भी की गई। बाद में इन्हें छोड़ दिया गया।

शाही स्नान के अवसर पर हरिद्वार आने वाले वाहनों के लिए यातायात व्यवस्था नियंत्रित की गई है और जगह जगह पर संकेत बनाए गए हैं ताकि किसी को किसी प्रकार की दिक्कत न हो।

हरिद्वार में हर की पैड़ी तथा आसपास के निवासियों की जरूरतों को देखते हुए पैदल चलने के लिए पाँच हजार लोगों को और 250 वाहनों के लिए पास जारी किए गए हैं।

ध्यान दें

प्रकाशित समाचारों पर आप अपनी राय या टिपण्णी भी भेज सकते हैं , हर समाचार के नीचे टिपण्णी पर क्लिक कर के .

घूमता कैमरा

लोकप्रिय समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.