ताजा समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

 

30 जनवरी, 2010

लाखों ने किया चौथा कुंभ स्नान

हरिद्वार में चल रहे महाकुंभ के चौथे स्नान माघ पूर्णिमा के दिन अब तक करीब छह लाख लोगों ने गंगा के विभिन्न घाटों पर डुबकी लगाई और गंगा किनारे पूजा-पाठ किया। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि तड़के चार बजे शुरू हुआ स्नान का क्रम दिन के दो बजे तक लगातार चलता रहा।

सूत्रों के अनुसार स्नान आज शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न कराने के लिए हरकी पैड़ी तथा आसपास के इलाकों में केन्द्र से बुलाए गए कमांडो दस्ते को विशेष रूप से तैनात किया गया था।

एक अनुमान के मुताबिक आज छह लाख से भी अधिक लोगों ने गंगा में डुबकी लगाई जबकि स्नान का क्रम अब भी जारी है। सुबह चार बजे से ही लोगों ने स्नान शुरू कर दिया था तथा स्नान के देर शाम तक चलते रहने की उम्मीद है।

सूत्रों के अनुसार महाकुंभ मेले में खो गए छह व्यक्तियों को उनके परिजनों से मिला दिया गया, जबकि दो व्यक्तियों को नहाते समय डूबने से बचाया गया।

कुंभ मेला के पुलिस उप महानिरीक्षक आलोक शर्मा ने बताया कि कुंभ के दौरान सुरक्षा व्यवस्था पूरी तरह चुस्त-दुरुस्त थी। शर्मा ने बताया कि चप्पे-चप्पे पर नजर रखने के लिए हरकी पैड़ी तथा आसपास के इलाकों सहित चण्डीपुल, शांतिकुंज, वीआईपी घाट और अन्य क्षेत्रों में जहाँ एक ओर सीसीटीवी कैमरे लगाए गए थे वहीं दूसरी ओर दूरबीन से सुरक्षाकर्मी स्नान करने वालों की गतिविधियों पर नजर रखे हुए थे।

अधिकारिक सूत्रों ने बताया कि महाकुंभ की शुरुआत के दिन से ही हरिद्वार, ऋषिकेश, मुनि की रेती और अन्य स्थानों पर गंगा के किनारे लाखों लोगों की भीड़ आज भी लगी रही और लोगों ने सुबह से ही स्नान करना शुरू कर दिया था। सूत्रों के अनुसार अकेले हरकी पैड़ी पर करीब दो लाख लोगों ने स्नान किया।

इस अवसर पर चार जोनल और 14 सेक्टरों में विशेष रूप से मजिस्ट्रेटों की तैनाती की गई थी। इन इलाकों में 30 पुलिस निरीक्षक और 283 पुलिस उपनिरीक्षक के साथ भारी संख्या में पुलिस के जवानों को तैनात किया गया था।

कुंभ क्षेत्र के जिलाधिकारी आनन्द बर्धन ने बताया कि 130 वर्ग किलोमीटर के कुंभ क्षेत्र के चप्पे-चप्पे पर सुरक्षा बरतने के साथ ही श्रद्धालुओं के समुचित स्नान को भी सुनिश्चित किया गया।

ध्यान दें

प्रकाशित समाचारों पर आप अपनी राय या टिपण्णी भी भेज सकते हैं , हर समाचार के नीचे टिपण्णी पर क्लिक कर के .

घूमता कैमरा

लोकप्रिय समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.