ताजा समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

 

30 दिसंबर, 2009

नव वर्ष पर एसएमएस काटेंगे ग्राहकों की जेब

नए साल पर मोबाइल फोन से एसएमएस कर बधाई संदेश भेजनेवाले अब सावधान हो जाएं। अगर आप मोबाइल फोन पर मंहगे टैरिफ प्लान डालने के बाद फ्री या सस्ते एसएमएस करने की सोच रहे हैं तो भूल जाइए। कंपनियों ने इस बार दो ‘ब्लैक डे’ घोषित कर रखे हैं यानी ग्राहकों की जेब काटने की पूरी तैयारी। खास बात तो यह है कि कंपनियों ने इस बार डिलीवरी रिपोर्ट न देने की घोषणा कर रखी है। यानी आपके संदेश मिलने की कोई गारंटी नहीं है।
मोबाइल कंपनियां नव वर्ष, होली, दीपावली आदि मौके की तलाश में रहती हैं। इन दिनों को ‘ब्लैक डे’ कहा जाता है। इस दिन किसी भी प्रकार का टैरिफ वाउचर प्रभावी नहीं रहता और मोबाइल का बैलेंस दनादन कम हो जाता है। वहीं पोस्ट पेड ग्राहक बिल देखने के बाद गश खा जाते हैं। इस बार भी कुछ कंपनियां एक दिन पहले ही नए साल का टैरिफ लागू करने की योजना बना रही हैं। यानी जो लोग 31 दिसंबर की रात 12 बजे तक एसएमएस भेज पैसे बचाने की जुगत करते हैं, उन्हें इस बार खासी सावधानी बरतनी होगी, क्योंकि 30 दिसंबर की आधी रात के बाद ही एसएमएस की सामान्य दरें लागू हो जाएंगी। कुछ कंपनियों ने हालांकि अपने उपभोक्ताओं को सूचित करना शुरू भी कर दिया है।

‘ब्लैक डे’ का मतलब यह है कि उस दिन कोई भी टैरिफ या स्कीम प्रभावी नहीं होगी। अधिकांश ग्राहक फ्री या सस्ते एसएमएस स्कीम वाउचर लोड कराते हैं, जो इस दिन काम नहीं करते हैं। बीएसएनएल का टैरिफ भी इन दिनों प्रभावी नहीं होता है। हर कंपनी ने अपने-अपने ‘ब्लैक डे’ तय कर रखे हैं। एयरटेल ने वर्ष में 11, तो टाटा ने 7 ‘ब्लैक डे’ घोषित कर रखे हैं। सभी कंपनियों के अलग-अलग दिन भी तय हैं।
बीएसएनएल और आइडिया के सिर्फ पांच ‘ब्लैक डे’ हैं।
कंपनियों ने नए साल पर भारी-भरकम कमाई करने की तैयारी कर ली है, लेकिन नेटवर्क पर पड़नेवाले बोझ से निपटने की कोई तैयारी नहीं है। इसलिए इस दिन मोबाइल पर नेटवर्क प्रॉब्लम अधिक रहेगा।
उधर कंपनियों ने घोषणा कर दी है कि इस दिन डिलीवरी रिपोर्ट भी नहीं देंगे यानी एसएमएस पहुंचा या नहीं इसकी कोई गारंटी नहीं होगी, लेकिन पैसे कटने की पूरी गारंटी तो है जनाब!

ध्यान दें

प्रकाशित समाचारों पर आप अपनी राय या टिपण्णी भी भेज सकते हैं , हर समाचार के नीचे टिपण्णी पर क्लिक कर के .

घूमता कैमरा

लोकप्रिय समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.