ताजा समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

 

06 दिसंबर, 2009

समाज सेवा नेत्रदान से ही संभव : एसडीओ

विकलांग भी समाज में जीने के हकदार हैं। नैन नहीं तो चैन नहीं है। इसलिये मरने के बाद भी समाज सेवा करने के लिए नेत्रदान करना चाहिए। ये बातें अनुमंडल पदाधिकारी कपिलदेव महतो ने लायन्स क्लब आफ नवगछिया टाउन द्वारा लैंस प्रत्यारोपण पद्धति से मोतियाबिंद के मुफ्त आपरेशन शिविर के उद्घाटन मौके पर कही। शिविर में सिविल सर्जन प्रतिमा मोदी ने एक नेत्र बैंक की स्थापना पर लोगों का ध्यान आकर्षित करते हुए कहा कि यह कार्य लायन्स क्लब के सहयोग से ही संभव है। इसके साथ ही उन्होंने अंधापन और नेत्र में विकलांगता के कारणों एवं बचाव पर चर्चा करते हुए विटामिन ए युक्त भोजन करने का सुझाव दिया। वहीं सेवा निवृत्त सिविल सर्जन डा.आरसी राय ने भी अंधापन से बच्चों को बचाने के कई उपाय सुझाए। अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी कृष्ण कुमार शर्मा ने बच्चों को टीवी देखने से बचाने की सलाह दी। कार्यक्रम के डिस्ट्रीक्ट चेयर पर्सन लायन शंकर लाल जैन ने ब्लड बैंक की स्थापना एवं रक्तदान करने से होने वाले फायदे को बताया। उक्त शिविर प्रख्यात नेत्र विशेषज्ञ डा. बीएल चौधरी एवं उनकी टीम द्वारा आई केयर सेन्टर में लगाया गया था। जहां क्लब के पवन सर्राफ, शंकर लाल केडिया, पूर्व अध्यक्ष राजेन्द्र शर्मा, मो. इसराफिल, डा.एके केजरीवाल, सचिव प्रवीण कुमार भगत आदि उपस्थित थे। कार्यक्रम का मंच संचालन रमेश सर्राफ ने किया।

ध्यान दें

प्रकाशित समाचारों पर आप अपनी राय या टिपण्णी भी भेज सकते हैं , हर समाचार के नीचे टिपण्णी पर क्लिक कर के .

घूमता कैमरा

लोकप्रिय समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.