ताजा समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

 

27 जून, 2009

उत्तर बिहार को बाढ़ की त्रासदी से मुक्ति के लिए 14 सौ करोड़ की योजना

देश के सुप्रसिद्ध अर्थशास्त्री, प्रधानमंत्री के आर्थिक सलाहकार तथा बिहार टास्क फोर्स के अध्यक्ष डा. सतीशचन्द्र झा ने शनिवार को यहां कहा कि बिहार खासकर उत्तर बिहार को बाढ़ की त्रासदी से मुक्ति दिलाने के लिए चौदह सौ करोड़ की एक योजना तैयार की गयी है। इस योजना के पूरा हो जाने पर उत्तर बिहार में बाढ़ की त्रासदी पर हद तक नियंत्रण पा लिया जाएगा। इस योजना के तहत नदियों को जोड़ने की योजना तैयार की गई है। इस योजना में बांधों को और अधिक लम्बा, चौड़ा तथा ऊंचा किया जाएगा। सभी बांधों को इस तरह बहुद्देश्य बनाया जाएगा कि वह बाढ़ से रक्षा के साथ सड़क मार्ग के रूप में भी उनका उपयोग किया जा सके। उन बांधों पर मजबूत सड़कें तैयार की जाएंगीं। डा. झा शनिवार को स्थानीय जयप्रकाश महाविद्यालय में अपने सम्मान में आयोजित सम्मान समारोह में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि वे भागलपुर जिले और बिहार के विकास के लिए ही नहीं पूरे एशिया महादेश को विकसित करने के लिए एक कारगर फ्यूचर एजेंडा तैयार कर रहे हैं जिससे आनेवाले दिनों में भारत इक्कीसवीं सदी में आर्थिक क्षेत्र में विकसित राष्ट्र बनकर उभरेगा। उन्होंने बिहार में चल रहे विकास कार्यो की सराहना करते हुए कहा कि राज्य की सड़कों में सुधार आ रहा है। उन्होंने कहा कि शीघ्र ही राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 31 को फोर लेन बनाया जाएगा। इसके लिये केन्द्र सरकार से बिहार को हरसंभव आर्थिक सहायता मिलेगी। उन्होंने पिछले वर्ष कुसाहा त्रासदी के लिये बिहार सरकार को दोषी ठहराते हुए कहा कि उन्होंने सुन्दर, स्वच्छ और विकसित बिहार की कल्पना की है जिसे पूरा किया जाएगा। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा शिक्षा संस्थानों के जीर्णोद्धार की योजनाओं का खुलासा करते हुए कहा कि तीन करोड़ की एक राष्ट्रीय योजना तैयार की जा रही है जिससे प्राकृतिक आपदाओं से क्षतिग्रस्त महाविद्यालयों के भवनों का जीर्णोद्धार किया जाएगा। प्रधानमंत्री के आर्थिक सहालकार डा. झा ने कहा कि खगड़िया और नवगछिया क्षेत्र के केला उत्पादकों की सहुलियत के लिए इस पर आधारित उद्योग स्थापित किया जाएगा। एक नये पैकेज के तहत उत्पादित केले को बाजार उपलब्ध कराने व वहां तक उन्हें पहुंचाने की व्यवस्था की जाएगी। कार्यक्रम की अध्यक्षता कालेज के प्राचार्य डा. ओमप्रकाश गुप्ता ने की। कार्यक्रम का संचालन डा. सुबोध मण्डल ने किया। इस अवसर पर अंगिका के लोक गायक चेतन परदेसी ने लज्जाते गम बढ़ा दीजिए और फिर मुस्कुरा दीजिए . गजल से डा. सतीशचन्द्र झा एवं उनकी पत्‍‌नी सहित तमाम अतिथियों का मनोरंजन किया। समारोह में सुदामा साह, प्रो. रविन्द्र श्रीवास्तव, धीरेन्द्र झा, अबुल आसीम, सियाराम यादव, भूपेन्द्र यादव, अशोक कुमार सिंह, पूर्व मुखिया बैरिस्टर सिंह, भक्तिनाथ झा, उग्रमोहन ठाकुर, भोला झा, मुखिया, गीता देवी, राजेश कुमार रंजू, मनोज कुमार सहित छात्र, छात्रा, शिक्षकेत्तर कर्मचारी शामिल थे। धन्यवाद ज्ञापन प्राचार्य डा. गुप्ता ने किया।

ध्यान दें

प्रकाशित समाचारों पर आप अपनी राय या टिपण्णी भी भेज सकते हैं , हर समाचार के नीचे टिपण्णी पर क्लिक कर के .

घूमता कैमरा

लोकप्रिय समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.