ताजा समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

 

15 नवंबर, 2012

मोहलत का आज आखिरी दिन, आज चूके तो रद्द होगा कनेक्शन


यदि आपके पास एक से ज्यादा रसोई गैस कनेक्शन हैं और अब तक आपने अतिरिक्त कनेक्शन सरेंडर नहीं किया है, तो आज ही एजेंसी जाकर एक कनेक्शन सरेंडर करा दीजिए। सरेंडर नहीं कराना चाहते हैं तो एक कनेक्शन को गैर घरेलू श्रेणी में तब्दील करवा लीजिए। ऐसा नहीं करने पर तेल कंपनियां आपके सभी कनेक्शन रद्द कर सकती हैं।
आपका कनेक्शन यदि ब्लॉक किया गया है तो भी 15 नवंबर को एजेंसी जाकर
केवाईसी फार्म भरकर कनेक्शन दोबारा शुरू कर सकते हैं। इसमें इस बात का प्रमाण देना होगा कि किचन अलग है और आपके नाम से कहीं कोई और कनेक्शन नहीं है।
 दरअसल, इंडियन ऑयल ने एक पते पर एक से ज्यादा कनेक्शन होने के आधार पर राजधानी में ही सवा लाख कनेक्शन ब्लॉक किए हैं। प्रदेश में ऐसे 15 लाख कनेक्शन चिन्हित किए गए हैं। मध्यप्रदेश-छत्तीसगढ़ इंडियन ऑयल के महाप्रबंधक यशवीर कुमार गुप्ता कहते हैं कि (बुधवार शाम 6 बजे तक) उनके पास तारीख बढ़ाने के संबंध में कोई सूचना नहीं आई है।
सरेंडर के बाद तुरंत मिल जाएगी सिक्योरिटी राशि
जिनके पास एक से ज्यादा कनेक्शन हैं, उन्हें अतिरिक्त कनेक्शन सरेंडर कराने के लिए संबंधित गैस एजेंसी में आवेदन करना होगा। इसके लिए एक फार्म भरना होगा। सिलेंडर और रेगुलेटर जमा करते ही उसी दिन उपभोक्ता को सिक्योरिटी राशि वापस मिल जाएगी। ये वो राशि है जो कनेक्शन लेते समय कंपनी को दी जाती है। 15 नवंबर के बाद कनेक्शन ब्लॉक कर दिया जाएगा। सिक्योरिटी राशि भी वापस नहीं मिलेगी
वेबसाइट पर ऐसे देखें एक से ज्यादा कनेक्शन धारकों की सूची
वेबसाइट www.petroleum.nic.in पर लॉगइन करें। एलपीजी पोर्टल के ऑप्शन को चुनें। इसके बाद जिस कंपनी में आपका कनेक्शन है, उस ऑप्शन को चुनें। सबसे पहले प्रदेश, फिर शहर और फिर डिस्ट्रीब्यूटर का नाम सिलेक्ट करें। विंडो  पर आपको मल्टीपल कनेक्शन का ऑप्शन दिखेगा, इसे क्लिक करते ही संबंधित एजेंसी पर एक से ज्यादा कनेक्शन धारकों की लिस्ट खुल जाएगी। इसमें आप अपना नाम सर्च भी कर सकते हैं। इसके लिए आपको उपभोक्ता क्रमांक डालना होगा। इस पोर्टल पर आप यह भी जान सकते हैं कि साल भर में आपको कितने गैस सिलेंडर मिले हैं।

ध्यान दें

प्रकाशित समाचारों पर आप अपनी राय या टिपण्णी भी भेज सकते हैं , हर समाचार के नीचे टिपण्णी पर क्लिक कर के .

घूमता कैमरा

लोकप्रिय समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.