ताजा समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

 

12 जून, 2012

अगर मैं देशद्रोही हूं तो सरकार मुझे जेल में डालेः अन्ना

जन लोकपाल के लिए मुहिम चला रहे बुजुर्ग समाजसेवी अन्ना हजारे ने कहा है कि प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) उनके खिलाफ बेबुनियाद आरोप लगा रहा है। उन्होंने कहा, 'अगर हमारे पीछे विदेशी शक्तियां हैं, अगर हम देशद्रोही हैं तो सरकार हमें जेल में क्यों नहीं डाल देती?'

मंगलवार को टीवी समाचार चैनलों से बातचीत करते हुए उन्होंने कहा, 'पीएमओ का पत्र आज ही मुझे मिला। ऐसे झूठे आरोप लगाना सही नहीं है।' अन्ना ने कहा कि मूल मुद्दे से लोगों का ध्यान हटाने के लिए बेबुनियाद आरोप लगाए जा रहे हैं। इससे पहले टीम अन्ना की ओर से इस बारे में एक बयान भी जारी किया गया जिसमें पीएमओ के पत्र पर प्रतिक्रिया दी गई, हालांकि वह बयान जारी होने तक पीएमओ का पत्र आधिकारिक तौर पर टीम अन्ना को नहीं मिला था।
प्रधानमंत्री के आरोपों पर अन्ना का जवाब

अन्ना आधिकारिक तौर पर पत्र मिलने की पुष्टि करते हुए कहा कि 'चूंकि सरकार कह रही है हमारे पीछे विदेशी शक्तियां हैं, इसलिए उसे बताना चाहिए कि वे कौन सी विदेशी शक्तियां हैं।' उन्होंने सवाल किया, 'अगर हम देश विरोधी ताकतों के साथ हैं, अगर हम देशद्रोही हैं तो सरकार हमें जेल में क्यों नहीं डालती?' उन्होंने कहा कि सरकार ने हर स्तर पर धोखा दिया है। वह आज भी लोगों को गुमराह करने की कोशिश कर रही है।

अन्ना ने कहा कि करप्शन के खिलाफ आवाज उठाने वाले लोग अगर सरकार को देशद्रोही नजर आते हैं तो इसे देश का दुर्भाग्य ही कहना होगा। उन्होंने कहा कि देश का बच्चा-बच्चा जानता है कि सच क्या है। ऐसे में सत्ता के शिखर पर बैठे शख्स की बातों का वजन कम होता है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री की बातों का वजन जनता की नजर में कम हो, यह देश की जनता के हित में नहीं है।

ध्यान दें

प्रकाशित समाचारों पर आप अपनी राय या टिपण्णी भी भेज सकते हैं , हर समाचार के नीचे टिपण्णी पर क्लिक कर के .

घूमता कैमरा

लोकप्रिय समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.