ताजा समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

 

02 मई, 2010

मुझे फँसाया गया है-माधुरी गुप्ता

दिल्ली की एक अदालत ने शनिवार को जाँच अधिकारियों की राजनयिक माधुरी गुप्ता से हिरासत में और पूछताछ करने की अर्जी को ठुकरा दिया और उसे 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया। इस बीच माधुरी ने कहा कि वह निर्दोष है और उसे फँसाया गया है।
माधुरी पर पाकिस्तानी खुफिया एजेंसियों को गोपनीय सूचना देने का आरोप है। माधुरी (53) गत 23 अप्रैल से पुलिस हिरासत में थी। उसने दावा किया कि वह निर्दोष है और उसे इस मामले में फँसाया जा रहा है।
उसने मुख्य मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट कावेरी बावेजा के समक्ष चैंबर में चली सुनवाई के दौरान यह दावा किया। यह सुनवाई दस मिनट के लिए चली। मामले की संवदेनशीलता को देखते हुए सुनवाई बंद कमरे में चली।
सुनवाई से बाहर निकलते हुए माधुरी के वकील जोगिंदर दहिया ने उन आरोपों का खंडन किया कि वह पाकिस्तान में प्रलोभन में फँस गई।
दहिया ने कहा कि उसने मुझसे कहा कि ऐसा कुछ भी नहीं हुआ। मैं नहीं जानती कि पुलिस किस आधार पर यह कह रही है। उन्होंने कहा कि माधुरी ने अदालत से कहा कि वह निर्दोष है और उसे इस मामले में फँसाया जा रहा है।
उन्होंने कहा कि पुलिस ने अदालत में पर्याप्त साक्ष्य उनके खिलाफ नहीं रखे और वे उनकी हिरासत चाहते थे ताकि रिकॉर्ड से उनका आमना-सामना करा सकें।
माधुरी के वकील ने अदालत कक्ष के बाहर मीडियाकर्मियों से कहा कि वे साक्ष्यों के बारे में ज्यादा बात नहीं कर रहे हैं कि क्या साक्ष्य उन्होंने उनके खिलाफ हासिल कर लिए हैं। वे इस आधार पर रिमांड की माँग कर रहे हैं कि वे रिकॉर्ड के साथ उनका आमना-सामना कराना चाहते हैं।
उन्होंने अदालत के समक्ष काफी रिकॉर्ड नहीं दिखाए कि उन्होंने अब तक उनके खिलाफ क्या सबूत जुटाए हैं। दहिया ने कहा कि माधुरी के अगले हफ्ते जमानत याचिका दायर करने की संभावना है।
माधुरी को इस्लामाबाद से बुलाने के बाद गिरफ्तार किया गया था। वहाँ वह प्रेस एवं सूचना शाखा में सेकेंड सेकेट्ररी के तौर पर पदस्थापित थी। उसे आधिकारिक गोपनीयता अधिनियम के उल्लंघन के आरोप में गिरफ्तार किया गया था।
अधिकारियों को उन पर तब शक हुआ जब उन्होंने मिशन की सूचना शाखा में अपनी भूमिका से इतर क्षेत्रों में असाधारण दिलचस्पी दिखाई। केंद्रीय खुफिया एजेंसियों ने विदेश मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारियों को पाकिस्तान में उनकी गतिविधियों के बारे में जानकारी दी। विदेश मंत्रालय की पदोन्नत अधिकारी माधुरी मिशन में करीब तीन साल से काम कर रही थी।

ध्यान दें

प्रकाशित समाचारों पर आप अपनी राय या टिपण्णी भी भेज सकते हैं , हर समाचार के नीचे टिपण्णी पर क्लिक कर के .

घूमता कैमरा

लोकप्रिय समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.