ताजा समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

 

18 जनवरी, 2010

बसु को श्रद्धांजलि देने उमड़ा जनसैलाब

पश्चिम बंगाल में 23 वर्ष तक शासन करने वाले माकपा के वरिष्ठ नेता ज्योति बसु के निधन पर उन्हें अपनी अंतिम श्रद्धांजलि देने के लिए पार्टी मुख्यालय और उनके आधिकारिक आवास पर शोकसंतप्त समर्थकों की भीड़ उमड़ आई है।

उल्लेखनीय है कि बसु के निधन के बाद राज्य में दो दिन का शोक मनाने की घोषणा की गई है। इस मौके पर राज्य के सभी सरकारी कार्यालयों में छुट्टी है।

कोलकाता के अलीमुद्दीन रोड स्थित पार्टी मुख्यालय के बाहर बसु की विशाल तस्वीर लगाई गई है, जिससे समर्थक उन्हें अपनी अंतिम श्रद्धांजलि अर्पित कर सकें। बसु के समर्थक उनकी तस्वीर पर गुलदस्ते और माला अर्पित कर रहे हैं।

उल्लेखनीय है कि बसु का पार्थिव शरीर अभी ‘पीस हैवन’ नामक निजी अंतिम संस्कार केंद्र पर रखा हुआ है। कल उनके शव को अंतिम संस्कार के लिए राज्य सचिवालय लाया जाएगा और अंतत: उनके शव को राज्य सरकार के अधीन संचालित होने वाले एसएसकेएम अस्पताल के अधिकारियों को सौंप दिया जाएगा।

बसु के सम्मान में आज से शुरू हुए राजकीय शोक में लोगों ने हाथों में ‘ज्योति बसु अमर रहें’ लिखी हुई तख्तियाँ लेकर उनके प्रति अपने सम्मान का प्रदर्शन किया। इस दौरान राज्यभर में माकपा के झंडे आधे झुके रहे।

माकपा सूत्रों ने कहा कि नेपाल के प्रधानमंत्री माधवकुमार नेपाल और वेनेजुएला के राष्ट्रपति ह्यूगो शावेज बसु को अपनी ओर से श्रद्धांजलि देने के लिए कोलकाता आ सकते हैं। उन्होंने कहा हमें अभी इस बात की पुष्टि करना है कि प्रधानमंत्री मनमोहनसिंह और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी भी यहाँ आ रहे हैं।

सूत्रों ने कहा कि बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना भी कल कोलकाता आ सकती हैं। इसके अलावा भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी के भी बसु के अंतिम संस्कार में शामिल होने की उम्मीद है। उल्लेखनीय है कि बसु के पार्थिव शरीर को कल राज्य विधानसभा के बाहर चार घंटे के लिए रखा जाएगा।

ध्यान दें

प्रकाशित समाचारों पर आप अपनी राय या टिपण्णी भी भेज सकते हैं , हर समाचार के नीचे टिपण्णी पर क्लिक कर के .

घूमता कैमरा

लोकप्रिय समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.