ताजा समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

 

16 जनवरी, 2010

रेल दुर्घटना, डीआरएम समेत चार निलंबित

टुंडला के निकट शनिवार को हुई रेल दुर्घटना के मामले को गंभीरता से लेते हुए रेल मंत्रालय ने उत्तर मध्य रेलवे के इलाहाबाद डिवीजन के डीआरएम सहित चार अधिकारियों को निलंबित करने के आदेश दिए हैं, जिनमें दुर्घटनाग्रस्त हुई एक ट्रेन के दो ड्राइवर भी शामिल हैं।

रेलवे बोर्ड के प्रवक्ता अनिल कुमार सक्सेना ने बताया कि कि उत्तर मध्य रेलवे के इलाहाबाद डिवीजन के डीआरएम एसके अग्रवाल और उत्तर रेलवे के दिल्ली डिवीजन के सीनियर डिवीजनल मैकेनिकल इंजीनियर विनीतसिंह को निलंबित कर दिया गया है।

उन्होंने बताया कि इनके अलावा उस कालिंदी एक्सप्रेस के चालक रामप्रकाश और सहायक चालक सतपालसिंह यादव को भी जाँच होने तक निलंबित कर दिया गया है। ट्रेन ने आज सुबह टुंडला के निकट खड़ी श्रमशक्ति एक्सप्रेस ट्रेन को पीछे से टक्कर मार दी थी।

तीन लोगों की मौत, 17 जख्‍मी : उत्तर प्रदेश में बीते एक पखवाड़े के अंदर हुई इस तीसरी बड़ी रेल दुर्घटना में आज तीन व्यक्तियों की मृत्यु हो गई और 17 अन्य घायल हो गए, जिनमें रेलवे के दो इंजन ड्राइवर भी शामिल हैं।

घने कोहरे के बीच भिवानी-कानपुर सेंट्रल कालिंदी एक्सप्रेस ने नेतावली टुंडला क्रॉसिंग के पास खड़ी श्रमशक्ति एक्सप्रेस ट्रेन को पीछे से टक्कर मार दी। दुर्घटना में श्रमशक्ति एक्सप्रेस का गार्ड वैन और इससे अगला डिब्बा क्षतिग्रस्त हो गया। श्रमशक्ति एक्सप्रेस दिल्ली से कानपुर जा रही थी।

सक्सेना ने बताया कि कोहरे के दौरान रेल परिचालन में सावधानी बरतने के बारे में नए दिशा-निर्देश भी जारी किए गए हैं और साथ ही चालकों को गति सीमा के बारे में और अधिक सतर्कता बरतने के आदेश दिए गए हैं। इस बीच रेल मंत्रालय ने रेल संरक्षा आयुक्त पीके वाजपेयी से दुर्घटना की जाँच कराने के आदेश दिए और साथ ही मृतकों के परिजनों को पाँच लाख रुपए, गंभीर रूप से घायलों को एक लाख रुपए और मामूली रूप से घायलों को 10 हजार रुपए की अनुग्रह राशि देने की घोषणा की है।

इससे पहले आज शनिवार की छुट्टी होने के बावजूद रेल मंत्रालय में वरिष्ठ अधिकारियों की बैठकों का दौर चलता रहा। रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष एसएस खुराना ने रेलवे बोर्ड के सदस्य (यातायात) विवेक सहाय और रेलवे बोर्ड के सदस्य (इंजीनियरिंग) सुदेश कुमार के साथ बैठक की और ट्रेन दुर्घटना की समीक्षा की।

रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष ने संरक्षा निदेशालय के अधिकारियों से भी बातचीत की और साथ ही कोहरे के दौरान रेल परिचालन की पूरी स्थिति की भी समीक्षा की।

दुर्घटना की सूचना मिलने के तत्काल बाद रेल मंत्रालय ने अपने तीन वरिष्ठ अधिकारियों के एक दल को घटनास्थल के लिए रवाना किया इनमें रेलवे बोर्ड के सदस्य (यांत्रिक) प्रवीण कुमार, रेलवे स्वास्थ्य सेवा के महानिदेशक वीके रामटेक और अतिरिक्त सदस्य (सिग्नल तथा दूरसंचार) केबी शर्मा शामिल हैं।

इस दुर्घटना के कारण आज करीब एक दर्जन ट्रेनों के मार्ग में परिवर्तन कर उन्हें दूसरे मार्ग से चलाया गया। घायलों को आगरा के हेरिटेज अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

इस बीच, उत्तर भारत के विभिन्न भागों में घने कोहरे के कारण आज भी करीब दो दर्जन गाड़ियों के अपने निर्धारित समय से घंटों विलंब से चलने के कारण अनेक ट्रेनों का परिचालन रद्द कर दिया और कई ट्रेनों के समय में फेरबदल किया गया।

घायलों के नाम इस प्रकार हैं- नई दिल्ली निवासी शारदा (45), नसरीन (32), अंजुम (21), मोहम्मद इमरान (12), नौशीन (7), कानपुर की शांति (60), सुलोचना (65), अमन (7), उमा (30), सुनीता (38), हरिसिंह (40), उन्नाव की रेणु यादव (18), शैली (35), इटावा निवासी सुनील कुमार (2), औरैया निवासी रामबरन (40) शामिल हैं।

उल्लेखनीय है कि इससे पहले दो जनवरी को उत्तरप्रदेश में ही तीन रेल दुर्घटनाएँ हुई थीं, जिनमें 10 लोग मारे गए थे और 45 अन्य घायल हुए थे

हेल्पलाइन नंबर- 05612-220337 (टुंडला)
011-23967332 (दिल्ली)

ध्यान दें

प्रकाशित समाचारों पर आप अपनी राय या टिपण्णी भी भेज सकते हैं , हर समाचार के नीचे टिपण्णी पर क्लिक कर के .

घूमता कैमरा

लोकप्रिय समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.