ताजा समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

 

15 अगस्त, 2009

स्वाईन फ्लू के दहशत में परियोजना कर्मी एवं कहलगांववासी

स्वाईन फ्लू जैसे संक्रामक बीमारी से परियोजनाकर्मी एवं कहलगांववासी दहशतजदा हो गये हैं। एनटीपीसी कहलगांव में देश के सभी राज्यों के लोग कार्यरत है। ऐसे में परियोजना क्षेत्र में प्रतिदिन बाहर से लोगों का आवाजाही होता है। लोग यह सोचकर भी दहशतजदा हैं कि कौन यहां वाहक बन कर आयेगा और स्वाईन फ्लू का कहर आरंभ हो जायेगा।

मालूम हो कि परियोजना कर्मियों के बच्चों सहित कहलगांव वासियों के बच्चे स्वाईन फ्लू प्रभावित शहरों के उच्च शिक्षण संस्थानों में पढ़ रहे हैं या कार्यरत है। पूना के एक उच्च शिक्षण संस्थान में पढ़ने वाले तीन लड़के इस बीमारी के भय से गुरुवार को कहलगांव अपने घरों को लौटे हैं।

सूत्रों के अनुसार एनटीपीसी अस्पताल के द्वारा अपने केबल नेटवर्क पर स्वाईन फ्लू से संबंधित जानकारी दे रहा है। परंतु इस संक्रामक बीमारी के लिए अभी तक न तो टेस्ट किट और न ही दवा ही अस्पताल के पास उपलब्ध है। बिहार सरकार द्वारा किये जा रहे प्रयासों से हम सभी पूर्व से ही अवगत है। कुल मिलाकर बिना हथियार के युद्ध लड़ने जैसी स्थिति है।

ध्यान दें

प्रकाशित समाचारों पर आप अपनी राय या टिपण्णी भी भेज सकते हैं , हर समाचार के नीचे टिपण्णी पर क्लिक कर के .

घूमता कैमरा

लोकप्रिय समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.