ताजा समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

 

18 सितंबर, 2010

मैरीकॉम विश्व मुक्केबाजी के फाइनल में

भारतीय मुक्केबाजी की 'आयरन लेडी' एमसी मैरीकॉम ने अपने जबरदस्त पंचों और हुकों का सिलसिला जारी रखते हुए महिला विश्व मुक्केबाजी प्रतियोगिता के फाइनल में प्रवेश कर लिया है जबकि एक अन्य भारतीय मुक्केबाज कविता को सेमीफाइनल में हारने के कारण काँस्य पदक से संतोष करना पड़ा।

राष्ट्रमंडल खेलों की ब्रांड एम्बेसडर मैरीकॉम ने इस प्रतियोगिता में अपना वजन वर्ग बदला था और वह पहली बार 48 किलोग्राम वर्ग में उतरी थीं। लेकिन वजन वर्ग बदलना मैरीकॉम के रास्ते में कोई बाधा साबित नहीं हुआ और उन्होंने फिलीपींस की एलिस केट अपारी को 8-1 से रौंदते हुए फाइनल में प्रवेश करने के साथ अपने लिए कम से कम रजत पदक सुनिश्चित कर लिया।

चार बार की विश्व चैंपियन और राजीव गाँधी खेल रत्न पुरस्कार विजेता मैरीकॉम ने अपने पिछले चार खिताब 46 किलोग्राम वर्ग में जीते थे। मैरीकॉम का फाइनल में रोमानिया की अपनी पुरानी प्रतिद्वंद्वी स्टेलूटा डूटा के साथ मुकाबला होगा जिन्होंने अन्य सेमीफाइनल में कजाकिस्तान की नजगुल बोरानबायेवा को 10-5 से शिकस्त दी।

हालाँकि भारत की कविता को 81 किलोग्राम से अधिक के वर्ग में काँस्य पदक से संतोष करना पड़ा। कविता को सेमीफाइनल में यूक्रेन की केटरीना कुझैल ने 14-2 के बड़े अंतर से पराजित किया।

वर्ष 2012 के लंदन ओलिम्पिक में पहली बार महिला मुक्केबाजी को शामिल किए जाने के बाद से अभी से भारत की पदक उम्मीद बन गई मैरीकॉम ने कहा कि मुझे बहुत खुशी है कि मैं एक बार फिर फाइनल में पहुँच गई हूँ। मैं इस बार भी स्वर्ण पदक जीतने के लिए अपना पूरा जोर लगा दूँगी। लेकिन फिलहाल मैं इतनी ऊँची उड़ान उड़ने के बजाए केवल अपने खेल पर फोकस कर रही हूँ। यदि मैं अच्छा लडूँगी तो मैं निश्चित रूप से जीत जाऊँगी।

दो बच्चों की माँ 27 वर्षीय मैरीकॉम का यह छठा विश्वकप है। पहली बार उन्होंने रजत पदक जीता था और उसके बाद लगातार चार स्वर्ण पदक जीते थे। शुक्रवार को हुए सेमीफाइनल में मणिपुर की मुक्केबाज की धीमी शुरुआत रही थी और वह पहले राउंड में 0-1 से पिछड़ गई थीं।

भारतीय मुक्केबाज को दूसरे राउंड में पहला अंक मिला और फिर उन्होंने तीसरे राउंड में आक्रामक खेल का प्रदर्शन करते हुए लगातार पाँच अंक जुटाए। मैरीकॉम ने कदमों का बेहतरीन इस्तेमाल करते हुए विपक्षी मुक्केबाज को पिछले पाँव पर रखा और लगातार आक्रामक तेवरों से उसे अंक जुटाने का कोई मौका नहीं दिया। मैरीकॉम ने आखिरी राउंड में दो अंक जुटाए और मुकाबला 8-1 से जीतकर खिताबी मुकाबले में प्रवेश कर लिया।

ध्यान दें

प्रकाशित समाचारों पर आप अपनी राय या टिपण्णी भी भेज सकते हैं , हर समाचार के नीचे टिपण्णी पर क्लिक कर के .

घूमता कैमरा

लोकप्रिय समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.