ताजा समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

 

22 मई, 2010

मैंगलोर में विमान हादसा, 158 की मौत

मैंगलोर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर आज सुबह एयर इंडिया का एक विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया। हादसमें 158 लोगोकी मौत हो गईविमान में चालक दल के छह सदस्यों समेत 166 लोग सवार थे। आठ लोगों को बच्चा लिया गया है, जिनमें चार बच्चे शामिल हैं। अब तक 40 लोगों के शव निकाले जा चुके हैं। हादसे में बुरी तरह जल जाने के कारण शवों की पहचान नहीं हो पा रही है। हादसे में पायलट की भी मौत हो गई है। राहत और बचाव का काम पूरा हो गया है।

मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक हादसा आज सुबह 6. 30 बजे उस वक्त हुआ, एयर इंडिया एक्सप्रेस की दुबई-मैंगलोर उड़ान संख्या आईएक्स-812 का बोइंग-737 विमान उतरते समय रनवे से फिसलकर खाई में जा गिरा। विमान के गिरते ही उसके टायर में आग लग गई और धुएँ के गुबार के साथ एक जोरदार विस्फोट सुना गया।

हादसे में बचे लोगों की सूची : मोइन कुट्टी, कन्नूर, प्रदीप, मैंगलोर, उमर फारूक, अब्दुल सत्तार कृष्णन, कसरगोड़, डॉ. सबरीना, रॉय जोएल और प्रताप डिसूजा उन खुशकिस्मत यात्रियों में शामिल हैं, जो हादसे में बच गए।

दो टुकड़ों में बँट गया विमान : लगभग पाँच वर्ष पुराना विमान आंशिक तौर पर दो भागों में विभाजित हो गया। एक प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि यात्रियों के शव छोटे टीले केंजर गुड्डा के पास बिखरे हुए हैं।

चालक दल के सदस्यों की पहचान हो गई है, जिनमें कैप्टन जैड ग्लूसिका, कैप्टन एसएस अहलूवालिया, सह पायलट युगांतर, मोहम्मद अली, तेजल और सुजाता शामिल हैं।

मैंगलोर से सांसद सदानंद गोड़ा ने कहा कि विमान के पायलट कैप्टन जैड ग्लूसिका ने नीचे उतरते समय विमान के आगे निकलने पर उसे वापस उड़ाने की कोशिश की और इस दौरान विमान का एक पंख एक छोटे टीले से टकरा गया

छोटे रनवे के कारण हुआ हादसा : मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक हादसे के पीछे रनवे का छोटा होना प्रमुख वजह माना जा रहा है। रनवे छोटा होने के कारण लैंडिंग होते ही चालक विमान पर नियंत्रण नहीं रख सका और विमान खाई में जा गिरा। कहा जा रहा है कि खाई के करीब होने के बाद भी रनवे को इतना छोटा क्यों बनाया गया...जब रनवे पूरी तरह इस्तेमाल करने लायक नहीं था तो उसका उद्घाटन क्यों किया गया। इस बारे में एयर इंडिया की तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है।

इसके अलावा विमान का जर्जर हालत में होना भी हादसे की दूसरी प्रमुख वजह बताई जा रही है। उक्त विमान से अक्सर यात्रा करने वाले एक यात्री रॉबर्ट डिसूजा ने स्टार न्यूज से बातचीत में बताया कि यह विमान रोजाना करीब 22 घंटे लगातार आसमान में रहता है। यात्रियों ने कई बार इसे बदलने की माँग भी की थी, लेकिन एयरपोर्ट प्रबंधन ने कोई ध्यान नहीं दिया।

कर्नाटक के गृहमंत्री वीएस आचार्य ने बताया कि विमान हवाई पट्टी के बाहर जाकर जहाँ रूका, वह जगह हवाई अड्डे से दस किलोमीटर दूर एक घाटी के निकट थी

आठ दिन पहले ही हुआ था उद्घाटन : मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक जिस रनवे पर हादसा हुआ, उसका उद्घघाटन आठ दिन पहले ही नागरिक उड्डयन मंत्री प्रफुल्ल पटेल ने किया था। पिछले एक हफ्ते से ही रनवे का इस्तेमाल किया जा रहा था।

सरकार ने रद्द किया रात्रिभोज : प्रधानमंत्री कार्यालय के सूत्रों ने जानकारी दी है कि प्रधानमंत्री मनमोहनसिंह द्वारा संप्रग-2 सरकार का एक साल पूरा होने के उपलक्ष्य में आज रात दिया जाने वाला रात्रिभोज विमान दुर्घटना के मद्देनजर रद्द कर दिया गया है।

मृतकों के परिजनों को 2-2 लाख रुपए : सरकार ने हादसे में मृत लोगों के परिजनों को 2-2 लाख रुपए और घायलों को 50-50 हजार रुपए बतौर मुआवजा देने की घोषणा की है। प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहनसिंह ने हादसे पर शोक जताया है।

हेल्पलाइन नंबर-
मैगलोर-0824-2220422
मुंबई-022-22796161
दिल्ली-011-25656196

ध्यान दें

प्रकाशित समाचारों पर आप अपनी राय या टिपण्णी भी भेज सकते हैं , हर समाचार के नीचे टिपण्णी पर क्लिक कर के .

घूमता कैमरा

लोकप्रिय समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.