ताजा समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

 

23 अक्तूबर, 2009

भारतीय को पीटने वाले आस्ट्रेलियाई को सजा

नस्ली हमलों के खिलाफ कठोर रूख अपनाते हुए एक आस्ट्रेलियाई अदालत ने बर्बर हमला कर एक भारतीय छात्र को कोमा में पहुंचाने वाले आस्ट्रेलियाई हमलावर को चार साल की कैद की सजा सुनाई है। जज ने कहा है कि इस तरह की घटनाओं पर अंतरराष्ट्रीय और सामुदायिक विरोध सही और स्वाभाविक है।

जज पामेला जेनकिंस ने 21 साल के जकारी हुसैन को न्यूनतम दो साल गैर पैरोल काल के साथ साढ़े चार साल की कैद की सजा सुनाई। उल्लेखनीय है कि 28 साल के भारतीय छात्र सुखराज सिंह पर जकारी और उसके गिरोह ने हमला किया था। इस गिरोह ने पिछले साल एक किराने की दुकान में लूटपाट की थी। सिंह 15 दिन तक कौमा में रहा। यह घटना पूरी दुनिया में प्रसारित हुई और इसपर भारत में व्यापक विरोध हुआ था।

भारतीय छात्रों पर हमलों के सिलसिले में यह पहला मामला है जिसमें किसी को सजा सुनाई गई है। आस्ट्रेलिया में हाल में खास तौर पर भारतीय छात्रों पर हमलों की अनेक घटनाएं हुई। पिछले तीन माह के दौरान कम से कम 30 भारतीय इन हमलों का निशाना बने।

दैनिक 'द एज' ने शुक्रवार को अपनी रिपोर्ट में बताया कि नगर स्थित काउंटी कोर्ट ने मामले की सुनवाई की। इस हमले में सिंह स्थाई मानसिक अपंगता का शिकार हुआ। रिपोर्ट के अनुसार अभियोजकों ने अदालत को बताया कि पिछले दिसंबर में नशे में धुत और लाठियों से लैस सात युवकों के एक गिरोह ने सनशाइन इलाके में स्थिति एक भारतीय किराना दुकान पर धावा बोला। गिरोह चिल्ला रहा था,क्या तुम भारतीय हो? यह गिरोह सिंह पर पिल पड़ा।

रिपोर्ट में बताया गया है कि नशे में धुत युवकों के गिरोह के हमले से सिंह बेहोश हो गया और उसे अस्पताल में महीनों बिताने पड़े। सिंह के सिर पर तीन हमले हुए। जज जेनकिंस ने कहा कि गिरोह ने जानबूझकर सिंह पर हमला किया और उत्पात मचाया। सोमाली मूल के आरोपी हुसैन ने सशस्त्र डाकेजनी, लापरवाही में गंभीर चोट पहुंचाने और लापरवाही में चोट पहुंचाने के छह मामलों में अपना जुर्म कबूल किया।

जज जेनकिंस ने कहा कि पीड़ितों ने हमलावरों से बचने और एक तरफ दुबकने की कोशिश की। उन्होंने ऐसा कुछ नहीं किया जिसे हमले के लिए उकसावेबाजी की संज्ञा दी जा सकती है। सुनवाई में बताया गया कि युवा शाम के करीब साढ़े छह बजे सिटी प्लेस स्थित स्टोर में गए। उससे करीब चार घंटे पहले एक पार्क में वे बीयर पीते रहे।

सुनवाई में बताया गया कि स्टोर में युवा हमलावरों में से दो ने दो ग्राहकों से नस्ली बहस शुरू कर दी। करीब पांच मिनट के बाद दोनों युवा अपने मित्रों के साथ डंडों और फ्लोरेसेंट ट्यूब से लैस आए। उन्होंने आते ही स्टोर में तोड़फोड़ किया और ग्राहकों के साथ मारपीट शुरू कर दी। वे बीच बीच में 'ब्लडी इंडियन' चिल्ला रहे थे। हमलावरों ने दुकान के कैश भी लूट लिए।

ध्यान दें

प्रकाशित समाचारों पर आप अपनी राय या टिपण्णी भी भेज सकते हैं , हर समाचार के नीचे टिपण्णी पर क्लिक कर के .

घूमता कैमरा

लोकप्रिय समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.