ताजा समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

 

22 अगस्त, 2009

गुजरात में जसवंत के पुस्तक की बिक्री बढी


जिन्ना पर लिखी पुस्तक के कारण भले ही जसवंत सिंह को भाजपा से बाहर का रास्ता देखना पड़ा हो लेकिन उनकी यह किताब जबरदस्त तरीके से बिक रही है और प्रकाशकों का कहना है कि गुजरात सरकार की पाबंदी बिक्री को और बढ़ाएगी।

'जिन्ना: इंडिया, पार्टीशन, इंडिपेंडेंस' के प्रकाशक रूपा एंड कंपनी के चेयरमैन आरके मेहता ने कहा कि प्रतिबंध बिक्री के लिहाज से च्च्छा रहा है। मेहता ने कहा कि उन्होंने मीडिया के माध्यम से ही इस प्रतिबंध के बारे में सुना था। उन्होंने कहा कि आज तक मैंने गुजरात सरकार के राजपत्र की सार्वजनिक अधिसूचना नहीं देखी है। जब मैं यह अधिसूचना देख लूंगा कि किस आधार पर इस पर प्रतिबंध लगाया गया, तभी मैं प्रतिक्रिया दे सकता हूं।

पूरे देश में पुस्तक की बिक्री को काफी च्च्छा बताते हुए उन्होंने कहा कि हम आपको सही संख्या नहीं बता सकते क्योंकि यह व्यापारिक गोपनीयता है लेकिन पुस्तक भंडारों पर इसका स्टॉक नहीं रुक रहा।

उन्होंने कहा कि यह हर जगह बिक रही है, यह पाकिस्तान में खूब बिक रही है और हमें लंदन, बांग्लादेश तथा आबू धाबी से भी ऑर्डर मिले हैं। विभाजन का विषय दुनिया में हर कहीं काफी रुचि का विषय रहा है।

जहां तक भारत की बात है कि इस घटनाक्रम को भुलाया नहीं जा सकता। इसमें एक ऐतिहासिक महत्व है और इसके इर्दगिर्द विवाद के आने से निश्चित तौर पर जिज्ञासा भी बढ़ जाएगी।

ध्यान दें

प्रकाशित समाचारों पर आप अपनी राय या टिपण्णी भी भेज सकते हैं , हर समाचार के नीचे टिपण्णी पर क्लिक कर के .

घूमता कैमरा

लोकप्रिय समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.