ताजा समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

 

25 जून, 2009

आर्थिक सलाहकार ने स्पर की डिजाइन को कारगर बताया

प्रधानमंत्री के आर्थिक सलाहकार डा0 सतीश चंद्र झा ने गुरूवार को अधिकारियों के दल के साथ सैदपुर व इस्माइलपुर में चल रहे कटाव निरोधी कार्य का जायजा लिया। इस दौरान कटाव निरोधी कार्य की डिजाईन से वे खासे प्रभावित हुए।
उन्होंने कहा कि काम काफी अच्छा हो रहा है लेकिन कार्य की असली परीक्षा बाढ़ के दौरान होगी। अगर इस बार कटाव रोकने में कटाव निरोधी वर्क सफल रहा तो यह बहुत बड़ी बात होगी लेकिन अगर कटाव जारी रहा तो कार्य की विफलता मानी जाएगी। श्री झा ने करीब दो घंटे तक यहां पचास करोड़ की लागत से बन रहे वर्क के विभिन्न स्परों का जायजा लिया। उनके साथ जलसंसाधन विभाग के आलाधिकारियों के अलावा एसडीओ कपिलदेव महतो, एक्सपर्ट अभियंता आश्रम राय, सीओ जयप्रकाश नारायण, कार्यपालक पदाधिकारी सह इस्माइलपुर सीओ दिनेश राम , कटाव निरोधी संघर्ष समिति के संयोजक जनार्दन शर्मा, पूर्व सांसद अनिल यादव, जदयू प्रखंड अध्यक्ष अमर सिंह साथ थे। श्री झा को निरीक्षण के दौरान जगह- जगह कटाव निरोधी कार्य की गुणवत्ता सहित मजदूरों के भुगतान में संवेदक के द्वारा की जा रही आनकानी की शिकायत मिली। लेकिन जब उन्होंने इन शिकायतों की जांच अभियंताओं से की तो मामला गलत निकला। इस क्रम में उन्होंने पाया कि काम को लेकर ग्रामीणों में काफी भ्रम है। उन्होंने ग्रामीणों को नसीहत दी कि वे काम की निगरानी जरूर करे लेकिन काम का विरोध करने के बदले निर्माण कार्य में अपना सहयोग दे। उन्होंने कहा कि कटाव निरोधी कार्य का एक मात्र मकसद सैदपुर सहित गोपालपुर , व इस्माइलपुर के कई गांवों को गंगा में विलीन होने से बचाना है। श्री झा ने अभियंताओं व संवेदक को निर्देश दिया कि वे ग्रामीणों में काम को लेकर उत्पन्न भ्रम को खत्म करने के लिए उन्हें काम के बारे में बताएं। श्री झा ने मदरौनी में हो रहे कटाव निरोधी कार्य का जायजा लिया। जहां ग्रामीणों ने पूर्व मुखिया विभाष प्रसाद सिंह के नेतृत्व में काम में बरती गई अनियमितता की जानकारी दी। श्री ने कहा कि भारत सरकार के द्वारा भेजा गयी राशि का यहां सही उपयोग नहीं किया जा रहा है। उन्होंने काम में गड़बड़ी पर गहरी नाराजगी जताई।

ध्यान दें

प्रकाशित समाचारों पर आप अपनी राय या टिपण्णी भी भेज सकते हैं , हर समाचार के नीचे टिपण्णी पर क्लिक कर के .

घूमता कैमरा

लोकप्रिय समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.