ताजा समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

 

14 अगस्त, 2010

क्या मतलब है आजादी का?

15 अगस्त को भारत की आजादी की 64वीं सालगिरह है, लेकिन क्या भारत के नागरिक वाकई अपने आपको आजाद महसूस करते हैं? स्वतंत्रता के असल मायने हैं क्या?

बीबीसी ने ये सवाल कई जानी-मानी हस्तियों के अलावा आम लोगों से भी पूछा। सूचना के अधिकार के लिए लंबी लड़ाई लड़ने वाले अरविंद केजरीवाल चाहते हैं कि सही मायनों में आजादी के लिए भारत से अफसरशाही ख़त्म होनी चाहिए।

वो कहते हैं, 'सूचना के अधिकार से हमें सिर्फ सवाल पूछने का अधिकार मिला है। सरकारी फैसलों से हमें आजादी नहीं मिली है। हमें ऐसा लोकतंत्र चाहिए जिसमें रोजाना जनता का दखल हो। ये पाँच साल वाला जनतंत्र हमें नहीं चाहिए।'

नीलम कटारा को भारत की क़ानून व्यवस्था से शिकायत है। वर्ष 2002 में उनके बेटे नीतीश कटारा की हत्या कर दी गई थी. हत्या के आरोपियों विकास और विशाल यादव को सज़ा दिलाने के लिए नीलम को लंबी क़ानूनी लड़ाई लड़नी पड़ी।

नीलम कहती हैं, 'जब आपको इंसाफ के लिए लड़ाई लड़नी पड़े, मतलब आपको सही मायनों में आजादी नहीं मिली है, पैसे वाले आरोपी अपने रसूख के बल पर कानूनी प्रक्रिया को खींचते रहते हैं। जब तक देश में भय का माहौल रहेगा, हम आजाद नहीं कहलाएँगे।'

भारत की पहली महिला आईपीएस अधिकारी किरण बेदी ऑनर किलिंग जैसी घटनाओं को बेहद दुर्भाग्यपूर्ण मानती हैं। उनका मानना है कि खाप पंचायतें नौजवानों के मन में दहशत भर रही हैं।

किरण बेदी कहती हैं, 'आजादी का मतलब है मैं बिना डरे कहीं भी घूम सकूँ, मर्जी से अपना जीवनसाथी चुन सकूँ। ऑनर किलिंग जैसी घटनाएँ युवाओं को डरा देती हैं। मानसिकता को गुलाम बना देती हैं और डरा हुआ आदमी भला देश के किस काम आएगा?'

ऑनर किलिंग पर ही भारत की राजधानी दिल्लीClick here to see more news from this city के लोगों का मानना है कि ऐसी घटनाएँ देश को पाषाण युग की तरफ़ ले जा रही हैं।

पिछले साल रैगिंग में अपनी जान गँवा चुके छात्र अमन काचरू के पिता राज काचरू चाहते हैं कि छात्रों को रैगिंग से आजादी मिले। उन्होंने ऐसी घटनाओं के खिलाफ अपने बेटे के नाम पर 'अमन मूवमेंट' शुरू किया है।

बीजिंग ओलिम्पिक में भारत को काँस्य पदक दिला चुके मुक्केबाज विजेंद्र सिंह आजाद देश में खेलों में भ्रष्टाचार को बेहद गंभीर मुद्दा मानते हैं। वो कहते हैं, 'भ्रष्टाचार की वजह से कई खिलाड़ियों को परेशान होना पड़ता है। कोई सामान्य प्रक्रिया नहीं अपनाता। सब शॉर्ट कट अपनाना चाहते हैं।' विजेंद्र खेलों में पारदर्शिता और ईमानदारी चाहते हैं।

ध्यान दें

प्रकाशित समाचारों पर आप अपनी राय या टिपण्णी भी भेज सकते हैं , हर समाचार के नीचे टिपण्णी पर क्लिक कर के .

घूमता कैमरा

लोकप्रिय समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.