ताजा समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

 

28 अगस्त, 2009

भागवत की भाजपा को सलाह

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत ने शुक्रवार को भारतीय जनता पार्टी से कहा कि वह चुनाव में मिली हार के ‘झटके’ से उबर कर फिर से अपना संतुलन बनाए और अंदरूनी कलह समाप्त करे।
भागवत ने भाजपा की मौजूदा स्थिति के बारे में कहा कि उसके हालात से संघ के खुश होने या नाखुश होने का कोई सवाल नहीं है। जो कुछ करना है, पार्टी को करना है। वह अच्छा करेगी तो अच्छा पाएगी, गलत करेगी तो भुगतेगी।
भाजपा में मचे अंतर्कलह और उठापटक के बारे में भागवत ने कहा कि साफ है कि जो हो रहा है, नहीं होना चाहिए। यह रूकना चाहिए...यह सब किसी को अच्छा नहीं लगता। लेकिन करना भाजपा को ही है।
भाजपा का नाम लिए बिना सरसंघचालक ने कहा कि नेता, पार्टी, सरकार, अवतार समाज को बदलने में केवल सहायक होते हैं और स्वार्थ भुलाकर ही समाज परिवर्तन संभव है। सामाजिक संगठन के बिना बदलाव संभव नहीं है।
उन्होंने कहा कि यह कहना ठीक नहीं है कि भाजपा पतन की ओर जा रही है, उसे चुनाव में हार का झटका मिला है लेकिन अब उसे अपने को संतुलित कर लेना चाहिए और हमें लगता है कि वह ऐसा कर लेंगे।
एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि संघ को नहीं लगता कि भाजपा एकात्म मानववाद से दूर जा रही है लेकिन वह ऐसा आचरण करें कि जनता को भी ऐसा नहीं लगे।
भाजपा अध्यक्ष राजनाथ सिंह से गुरुवार को हुई मुलाकात के बारे में पूछे जाने पर संघ प्रमुख ने कहा कि उन्होंने पार्टी अध्यक्ष को सलाह दी कि सब लोगों को एकता बनाकर चलना चाहिए, सब लोग एक मत से चले और पार्टी को संकट से निकालें।
भाजपा में नेतृत्व परिवर्तन के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि इस बारे में भी पार्टी को ही तय करना है लेकिन अगर वह हमसे सलाह मांगेगी तो हम उसे सुझाएँगे लेकिन बिन माँगे कोई राय नहीं देंगे।
उन्होंने कहा कि संघ का अपना खुद का इतना बड़ा काम है कि उसे न तो राजनीति का काम करने की फुर्सत है और न ही वह राजनीतिक माथापच्ची में पड़ना चाहता है।
यह कहे जाने पर कि कुछ दिन पहले उन्होंने ही कहा था कि भाजपा की कमान युवाओं को सौंपी जानी चाहिए और इसके लिए उनके पास 75 नाम हैं, संघ प्रमुख ने कहा कि वह अभी भी इस बात पर कायम है और भाजपा सलाह माँगे तो वह ये नाम सुझाने को तैयार है, लेकिन तय भाजपा को ही करना है।
जसवंतसिंह की विवादास्पद पुस्तक के बाद महात्मा गाँधी, जवाहरलाल नेहरू, सरदार पटेल के बारे में उठे विवाद पर उन्होंने कहा कि संघ की नजर में ये सभी नेता हमारे आदर्श हैं।

ध्यान दें

प्रकाशित समाचारों पर आप अपनी राय या टिपण्णी भी भेज सकते हैं , हर समाचार के नीचे टिपण्णी पर क्लिक कर के .

घूमता कैमरा

लोकप्रिय समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.