ताजा समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

 

31 अगस्त, 2009

शरद यादव जदयू के पुन: अध्यक्ष चुने गए

जनता दल यूनाइटेड ने सोमवार को सूखा, मंहगाई, गरीबी, बेरोजगारी जैसे आम जनता से जुड़े सवालों पर संर्घष का ऐलान किया. साथ ही पार्टी में परिवारवाद पर अंकुश लगाने और बिहार के बाहर पार्टी को मजबूत बनाने के लिए पार्टीजन से एकजुट होकर काम करने का संकल्प जताया.
पार्टी के एक दिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन में पार्टी ने भाजपा और कांग्रेस का नाम लिये बिना कहा कि वर्तमान राजनीतिक परिदृश्य में इस बार देश के मतदाताओं द्वारा दिये गये जनादेश को द्विध्रुवीय बता कर भारतीय राजनीति को भ्रमित करने का प्रयास जारी है. राजग के प्रमुख घटक जदयू ने इस दावे को गलत बताते हुए कहा ‘‘कांग्रेस और भाजपा का संयुक्त वोट 46.35 प्रतिशत है यानी 50 प्रतिशत से भी कम.’’ इससे पहले शरद यादव को लगातार दूसरी बार जनता दल यूनाइटेड का राष्ट्रीय अध्यक्ष चुन लिया गया. पार्टी की राष्ट्रीय परिषद की बैठक में 62 वर्षीय यादव के निर्विरोध पार्टी अध्यक्ष चुने जाने की घोषणा की गई.

महंगाई से निपटने में विफल रही संप्रग सरकार
शरद ने अपने अध्यक्षीय भाषण में देश के विभिन्न हिस्सों में सूखा और महंगाई की स्थिति से निपटने में संप्रग सरकार पर विफल रहने का आरोप लगाते हुए सूखे और मंहगाई की स्थिति पर चर्चा के लिए तमाम राज्यों के मुख्यमंत्रियों की दो दिवसीय बैठक बुलाने की मांग की. शरद ने कहा कि एक तरह से संपूर्ण उत्तर भारत भयंकर सूखे की चपेट में है. वहीं मंहगाई चरम पर है. सूखे पर मुख्यमंत्रियों की दो तीन दिन की बैठक होनी चाहिए जिसमें इस बात पर चर्चा हो कि स्थिति से कैसे निपटा जाए क्योंकि केन्द्र और राज्य सरकारों के आपसी सहयोग और मदद के बिना चुनौती का मुकाबला संभव नहीं है. भ्रष्टाचार के खिलाफ जोरदार हमला बोले जाने की आवश्यकता बताते हुए उन्होंने कहा कि यह गरीबी बढ़ाने का सबसे बड़ा कारण बन गया है क्योंकि गरीबों और आम आदमी के कल्याण के लिए जाने वाले पैसे को चन्द लोगों ने लूट का जरिया बना लिया है.

'राजनीति में परिवारवाद नहीं चलेगा'
पार्टी की राष्ट्रीय परिषद की बैठक में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, पार्टी के वरिष्ठ नेता जॉर्ज फर्नांडीस, राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री एवं पार्टी सांसद रामसुंदर दास, बिहार प्रदेश जदयू अध्यक्ष राजीव रंजन सिंह ललन, पार्टी प्रवक्ता शिवानंद तिवारी, महासचिव अरुण कुमार श्रीवास्तव एवं जावेद रजा तथा पार्टी के अनेक वरिष्ठ नेता, सांसद, विधायक एवं विभिन्न प्रदेशों के अध्यक्षों ने हिस्सा लिया. राजनीति में परिवारवाद पर जोरदार हमला बोलते हुए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने साफ तौर पर कहा कि जनता दल यू में परिवारवाद नहीं चलेगा. नीतीश ने कहा ‘‘हमने तय किया है, पार्टी में परिवारवाद नहीं चलेगा. अगर परिवारवाद ही चलेगा तो राजनीतिक कार्यकर्ता क्या करेंगे. वह क्या सिर्फ दरी बिछाने और झंडा ढोने का का ही काम करेंगे.’’ पार्टी कार्यकर्ताओं की जोरदार तालियों के बीच उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी अपनी सीमित ताकत की बदौलत परिवारवाद को नकारने का काम करेगी और राजनीति को ‘‘फैमिली प्रॉपर्टी’’ नहीं बनने देगी.

ध्यान दें

प्रकाशित समाचारों पर आप अपनी राय या टिपण्णी भी भेज सकते हैं , हर समाचार के नीचे टिपण्णी पर क्लिक कर के .

घूमता कैमरा

लोकप्रिय समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.