ताजा समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

 

01 नवंबर, 2010

बिहार में चौथे चरण का मतदान शुरू

पटना। बिहार में विधानसभा चुनाव के लिए सोमवार सुबह कड़ी सुरक्षा के बीच चौथे दौर का मतदान शुरू हो गया। चुनाव के इस चरण में लगभग 10.04 करोड़ मतदाता 58 महिलाओं सहित 568 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला करेंगे।

मतदान अलौली [अजा], सूर्यगढ़ा, तारापुर, जमालपुर, कटोरिया [अजा], बेलहर, सिकंदरा [अजा], जमुई, झाझा और चकाई [माओवाद प्रभावित घोषित] क्षेत्रों में कराया जहा रहा है जहां सुबह सात बजे से अपराह्न तीन बजे तक वोट डाले जाएंगे।

चौथे दौर के मतदान में भाजपा के दिग्गजों और मंत्रियों अश्विनी कुमार चौबे [भागलपुर], नंद किशोर यादव [पटना साहिब], रामनारायण मंडल [बांका] और जनता दल [यू] के मंत्री दामोदर राउत की किस्मत का फैसला भी होना है। वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी अफजल अमानुल्ला की पत्नी परवीन अमानुल्ला जनता दल [यू] के टिकट पर साबिहपुर कमाल से चुनाव लड़ रही हैं।

लोजपा अध्यक्ष रामविलास पासवान के भाई और पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष पशुपति कुमार पारस अलौली से चुनाव लड़ रहे हैं। राज्य विधानसभा के उपाध्यक्ष और राजद उम्मीदवार शकुनि चौधरी तारापुर से चुनावी मैदान में हैं।

पुलिस महानिदेशक नीलमणि ने सुरक्षा के बारे में कहा कि हमने स्वतंत्र, निष्पक्ष एवं शांतिपूर्ण ढंग से चुनाव कराने के लिए बहु स्तरीय सुरक्षा प्रबंध किए हैं।

नीलमणि ने बताया कि झारखंड और उत्तर प्रदेश से लगती सीमाओं को सील कर दिया गया है और कड़ी नजर रखी जा रही है। उन्होंने कहा कि स्पेशल टास्क फोर्स [एसटीएफ] के कमांडो और वरिष्ठ पुलिस अधिकारी हवाई निगरानी भी कर रहे हैं।

आज जिन निर्वाचन क्षेत्रों में मतदान हो रहा है वे आठ जिलों में फैले हैं। चौथे चरण के विधानसभा चुनाव के साथ ही बांका लोकसभा सीट पर उप चुनाव भी कराया जा रहा है। इस सीट पर दो उम्मीदवार पूर्व केंद्रीय मंत्री दिग्विजय सिंह की विधवा पुतुल सिंह [निर्दलीय] और राजद से पूर्व केंद्रीय मंत्री जयप्रकाश नारायण यादव चुनाव लड़ रहे हैं। राजग और कांग्रेस दोनों ही निर्दलीय उम्मीदवार का समर्थन कर रहे हैं। तीन महीने पहले दिग्विजय सिंह के निधन के चलते बांका लोकसभा सीट पर उपचुनाव कराया जा रहा है।

ध्यान दें

प्रकाशित समाचारों पर आप अपनी राय या टिपण्णी भी भेज सकते हैं , हर समाचार के नीचे टिपण्णी पर क्लिक कर के .

घूमता कैमरा

लोकप्रिय समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.