ताजा समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

 

01 अगस्त, 2009

कुतुबमीनार परिसर में भी हंगामा

विश्व धरोहर कुतुबमीनार परिसर सहित महरौली क्षेत्र के चार राष्ट्रीय स्मारकों में धार्मिक गतिविधियां चलाने को लेकर शुक्रवार दोपहर उस समय बलवा होते-होते बचा, जब दो समुदाय आमने-सामने आ गए। पुलिस ने मौके की नजाकत देखते हुए सक्रियता बढ़ा दी तथा हालात पर नियंत्रण कर लिया।

वहीं समुदाय विशेष के लोगों ने महरौली स्थित आर्कियोलॉजिकल पार्क के पास रोड जाम कर प्रदर्शन किया। बाद में इन लोगों ने कुतुबमीनार परिसर में भी हंगामा किया तथा भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के अधिकारियों के खिलाफ प्रदर्शन किया।

जानकारों का कहना है कि जामा मस्जिद के शाही इमाम सैयद अहमद बुखारी चार दिन पहले कुतुबमीनार पहुंचे थे। तब उन्होंने कुतुबमीनार और जमाली कमाली स्मारक, माढी स्मारक, राजों की बावली व हौजखास स्थित मोहम्मदी स्मारक में नमाज पढ़ने के लिए आने वालों को न रोकने की चेतावनी दी थी। इसके बाद से हालात बिगड़े हुए हैं। खुफिया तंत्र को सूचना मिली थी कि शुक्रवार को सैयद अहमद बुखारी नमाज के समय यहां आ सकते हैं। इसलिए सुबह से ही स्मारकों पर भारी पुलिस बल तैनात था और स्मारकों को सील कर दिया गया था। सिर्फ कुतुबमीनार में आवाजाही नहीं रोकी गई थी।

शुक्रवार को स्मारकों पर शाही इमाम तो नहीं पहुंचे, मगर दोपहर के समय संप्रदाय विशेष के लोग वहां धार्मिक अन्य 50 लोग कुतुबमीनार में नमाज अदा करने पहुंच गए। करीब इतनी ही संख्या में लाडो सराय स्थित एक हिंदू संगठन के सदस्य भी वहां पहुंच गए और एएसआई के अधिकारियों पर दबाव बनाया कि कुतुबमीनार से संप्रदाय विशेष की धार्मिक गतिविधियों को बंद कराएं अन्यथा वे आंदोलन शुरू कर देंगे। इस दौरान दोनों समुदाय के लोगों की भी आपस में बातचीत भी होने लगी। मगर पुलिस ने सक्रियता दिखाते हुए दोनों गुटों को अलग-अलग कर दिया। एक गुट वापस चला गया तो दूसरे गुट ने परिसर में बनी एक मस्जिद में जाकर नमाज पढ़ी। अभी तक शांति थी। परन्तु ढ़ाई बजे के लगभग तीन सौ लोग धक्का-मुक्की करते हुए कुतुब परिसर में घुस गए। इन लोगों ने हाथों में पोस्टर तख्तियां ले रखी थीं जिन पर एएसआई के विरुद्ध नारे लिखे हुए थे। इन लोगों ने एएसआई के अधिकारियों के विरुद्ध जमकर हंगामा किया तथा नारे लगाए। जिसके चलते मौके पर भारी पुलिस बल पहुंच गया। पुलिस ने शांत कराकर इन लोगों को वहां से बाहर निकाला। इससे पहले इन लोगों ने जमाली कमाली स्मारक व राजों की बावली में नमाज नहीं पढ़ने देने के विरोध में आर्कियोलॉजिकल पार्क के सामने महरौली रोड जाम लगाया तथा नमाज पढ़ी तथा गुस्से का इजहार किया। इस दौरान कुछ शरारती तत्वों ने आर्कियोलॉजिकल पार्क का पत्थर उखाड़ दिया तथा दीवार भी गिरा दी।

ध्यान दें

प्रकाशित समाचारों पर आप अपनी राय या टिपण्णी भी भेज सकते हैं , हर समाचार के नीचे टिपण्णी पर क्लिक कर के .

घूमता कैमरा

लोकप्रिय समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.