ताजा समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

 

25 जुलाई, 2009

स्पाइडरमैन से भी दो कदम आगे

दुनिया में बहुत सारे लोग मिलेंगे, जिन्हें लीक से हट कर काम करने में मजा आता है। इस कारण वह चर्चा में भी रहते हैं। अब दीवार पर उल्टा होकर चलने की कला को क्या कहेंगे? अब कर्नाटक के ज्योति का ही उदाहरण लीजिए। उसके हैरतअंगेज कारनामों को देखकर भारत आने वाले पर्यटक उसे स्पाइडरमैन की संज्ञा देते हैं। ज्योति दीवार पर उल्टा होकर ऐसे चढ़ता है, जैसे हालीवुड फिल्मों का स्पाइडरमैन।

कर्नाटक का 22 वर्षीय ज्योति पहले मजदूर था। चार साल पहले बांस के डंडे की मदद से दीवार पर वह उल्टा होकर चलता था। लेकिन अब वह बिना किसी सहारे के ऐसा करता है। ज्योति का दावा है कि तीन सौ फीट की ऊंचाई पर बिना किसी सहारे के चढ़ने में उसे डर नहीं लगता। वह इसका भरपूर लुत्फ उठाता है।

ज्योति के मुताबिक, इस कला को उसने बंदरों की हरकतों को देखकर सीखा है। हालांकि इस कला को उसने अपने पसंदीदा फिल्मों के स्टंट देखकर निखारा है। यहीं नहीं ज्योति स्पाइडरमैन पर बनीं सर्वश्रेष्ठ फिल्मों को देखकर उसकी नकल को बखूबी उतारता है। अपनी इस अनोखी कला के प्रदर्शन के दौरान वह अपने हाथों के बल नब्बे डिग्री के कोण पर उल्टा होकर चट्टानों पर चढ़ता है। इस दौरान ज्योति सुरक्षा के लिए कोई सामान नहीं ले जाता।

इस कला की खोज के बारे में ज्योति का कहना है कि इमारतों के निर्माण के दौरान बांस के मचान पर इस कला की शुरुआत की। लोगों का मनोरंजन करने के लिए सप्ताह के आखिरी दिनों खासतौर पर रविवार को चित्रदुर्ग किले पर अपनी बेजोड़ प्रतिभा का प्रदर्शन करता है। ज्योति के मुताबिक, जब वह उल्टा होकर चलता है तो उसे लोगों के चेहरे देखना बहुत अच्छा लगता है। खासतौर पर जब वह ऊंचाई पर चढ़ने लगता है तो उसके कारनामों को देखकर लोगों की सांसें थम जाती हैं। यह दृश्य उसे काफी भाता है।

दीवारों और चट्टानों पर उल्टा चढ़ने में प्रवीण हो जाने के बाद अब ज्योति की इच्छा दुनिया का सर्वश्रेष्ठ आरोहक [ऊंचाई पर चढ़ने वाला] बनने की है। वह फ्रांस के विश्व प्रसिद्ध आरोहक एलेन राबर्ट की तरह बनने की चाहत रखता है।

ध्यान दें

प्रकाशित समाचारों पर आप अपनी राय या टिपण्णी भी भेज सकते हैं , हर समाचार के नीचे टिपण्णी पर क्लिक कर के .

घूमता कैमरा

लोकप्रिय समाचार

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.